कमल हासन के खिलाफ तमिलनाडु के अरावुकुरिची में प्राथमिकी दर्ज

नई दिल्ली, मक्कल नीधि मय्यम (एमएनएम) के अध्यक्ष कमल हासन के खिलाफ तमिलनाडु के अरावुकुरिची में मंगलवार को एक प्राथमिकी दर्ज की गई।

पुलिस ने बताया कि यह प्राथमिकी उनके उस बयान के लिए दर्ज की गई है जिसमें उन्होंने कहा था कि, “स्वतंत्र भारत का पहला उग्रवादी एक हिंदू था।” उन्होंने कहा कि हासन पर भारतीय दंड संहिता की धाराओं – 153 ए और 295 ए के तहत मामला दर्ज किया गया है जो क्रमश: ‘धार्मिक भावनाओं को आहत करने” और ”विभिन्न समूहों के बीच शत्रुता को बढ़ावा देने” जैसे अपराधों से निपटती है।

करूर जिला पुलिस की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में धर्म, जाति, भाषा एवं नस्ल के आधार पर हिंसा भड़काने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की चेतावनी भी दी गई है। हासन ने रविवार को कहा था कि, “स्वतंत्र भारत का पहला उग्रवादी एक हिंदू” था। उनका इशारा महात्मा गांधी की हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे की तरफ था। उनकी इस टिप्पणी की भाजपा एवं अन्नाद्रमुक ने निंदा की हालांकि हासन को कांग्रेस एवं द्रविड़ार कझगम का साथ मिला।

दिल्ली की एक अदालत में अभिनेता से नेता बने कमल हासन पर धार्मिक भावनाओं को कथित तौर पर आहत करने के लिए मुकदमा चलाने के लिये शिकायत दायर की गई है। हासन के खिलाफ यह शिकायत महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को “हिंदू उग्रवादी” कहने के कारण कराई गई है। इस मामले को मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट के समक्ष 16 मई को सूचीबद्ध किये जाने की संभावना है।

शिकायतकर्ता ने भारतीय दंड संहिता (भादंसं) की धाराओं -153 ए (धर्म, नस्ल या भाषा आदि के आधार पर विभिन्न समूहों में शत्रुता को बढ़ावा देना) और 295 ए (धर्म आदि का अपमान कर धार्मिक भावनाओं को आहत करना) के तहत दंडनीय कथित अपराधों के लिए हासन पर मुकदमा चलाने की मांग की है। इन अपराधों के लिए तीन साल की कैद या जुर्माना या दोनों सजा हो सकती है।

यह शिकायत विष्णु गुप्ता ने दर्ज कराई है जिसने खुद को हिंदू सेना नामक संगठन का अध्यक्ष बताया है। गुप्ता का आरोप है कि हासन ने जानबूझ कर हिंदू धर्म को आतंकवाद के साथ जोड़ कर हिंदुओं की धार्मिक भावना को आहत करने के लिए अपमानजनक टिप्पणियां की हैं। मक्कल नीधि मय्यम के अध्यक्ष हासन ने तमिलनाडु की एक चुनावी सभा में सोमवार को कहा था कि स्वतंत्र भारत का पहला “उग्रवादी एक हिंदू नाथूराम गोडसे था, जिसने महात्मा गांधी की हत्या की।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *