गुजरात में बन रही दुनिया की सबसे ऊंची सरदार वल्लभ भाई पटेल की मूर्ति बनकर तैयार

नई दिल्ली, गुजरात में नर्मदा नदी के किनारे बन रही दुनिया की सबसे ऊंची सरदार वल्लभ भाई पटेल की 182 मीटर ऊंची मूर्ति बनकर तैयार हो गई है। जिसे “स्टैच्यू ऑफ यूनिटी” का नाम दिया गया है। अब इस प्रतिमा की फाइनल फिनिशिंग का काम चल रहा है। गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए मोदी चाहते थे कि सरदार वल्लभ भाई पटेल की एक ऐसी प्रतिमा बने, जो विश्व में सबसे ऊंची हो। अब नरेंद्र मोदी का वो सपना पूरा होने जा रहा है।

बता दें 31 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विश्व की सबसे ऊंची इस मूर्ति “स्टैच्यू ऑफ यूनिटी” का उद्घाटन करेंगे। सरदार पटेल की इस प्रतिमा के साथ ही श्रेष्ठ भारत भवन की भी शुरूआत की जाएगी। इस भवन में 50 से अधिक कमरे तैयार किए जाएंगे, इसके साथ ही इस जगह आने वाले पर्यटकों के लिए वैली भी तैयार की गई है। सुरक्षा, सफाई के साथ ही पटेल की मूर्ति के पास फूड कोर्ट भी बनाया जा रहा है। दिलचस्प बात तो ये है कि स्टैच्यू के अंदर दो लिफ्ट रखी गई हैं। यह लिफ्ट स्टैच्यू में ऊपर तक ले जाएंगी, जहां सरदार पटेल के दिल के पास एक गैलरी बनाई गई है, यहां से पर्यटकों को सरदार पटेल बांद और वैली का नजारा भी देखने को मिलेगा।

केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद इस मूर्ति को निर्माण के लिए अक्टूबर 2014 में लार्सेन एंड टर्बो (L&T) को ठेका दिया गया। इस काम को तय समय में पूरा करने के लिए 4076 मजदूरों ने दो शिफ्टों में काम किया। इसमें 800 स्थानीय और 200 चीन से आए कारीगरों ने भी काम किया। मूर्ति में पटेल की वो सादगी भी झलकती है, जिसमें सिलवटों वाला कुर्ता-धोती, बंडी और कंधे पर चादर उनकी पहचान थी। ये सब मूर्ति में ढल चुका है।

सरदार वल्लभ भाई पटेल में वो दम था कि उनकों सम्मान से लौह पुरुष कहा जाता है। इसलिए प्रधानमंत्री ने देश के कोने-कोने से लोहा मांगा था, ताकि वो लोहा पटेल के सपनेों को फौलादी बना दे। अब इसे इत्तेफाक कहें या कुछ और, लेकिन पटेल की इस मूर्ति का शिलान्यास भी तब हुआ था, जब देश में 2014 के आम चुनाव होने वाले थे और उद्घाटन भी तब होने जा रहा है, जब देश में 2019 के आम चुनाव की आहट आने लगी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *