झारखंड में दलित परिवार की दो महिलाओं को जिंदा जलाया

मेदिनीनगर, तरहसीथाना क्षेत्र के उदयपुरा गांव में बुधवार रात अपराधियों ने दो दलित महिलाओं को जिंदा जला दिया। घटना को जमीन विवाद में अंजाम दिया गया है। वहीं तीन लोग इस घटनाक्रम में जख्मी हैं। गांव में देर रात 11 से 12 बजे के बीच अपराधियों ने इस घटना को अंजाम दिया। अपराधियों ने जय पासवान के घर के दरवाजे की कुण्डी बाहर से बंद कर घर में आग लगा दी। इससे संजय की मां गहनी कुंवर और पत्नी इमली देवी की मौत जल जाने से हो गयी। पत्नी और माँ की चीख-पुकार सुन संजय, संजय की बेटी रूपा और बेटा सुदेश जगा तो पूरे घर को जलता हुआ पाया। जब तक वे कुछ समझते तब तक दोनों महिलाएं पूरी तरह जल चुकी थीं। घटना में संजय, रूपा और सुदेश बुरी तरह जख्मी हुए हैं। जिनका इलाज मेदिनीनगर सदर अस्पताल में चल रहा है।

संजय ने पुलिस को बताया है कि जमीन-विवाद में इस घटना को गांव के ही बलिन्दर पासवान, बबलू सिंह, संतु सिंह, संजय सिंह, बीरबल पासवान और पिपराटांड़ कोटेया के गुड्डू सिंह ने अंजाम दिया है।

डीएसपी हीरा लाल रवि गुरुवार की सुबह घटनास्थल पर पहुंचे। पुलिस ने मामले मे छह नामजद सहित पांच अज्ञात अपराधियों पर मामला दर्ज किया है। डीएसपी ने बताया कि अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए प्रयास जारी है।

गौरतलब है कि संजय पासवान के घर को जलाने के पहले अपराधियों ने आस-पड़ोस के घरों की भी कुण्डी बाहर से लगा दी थी ताकि कोई उनकी मदद के लिए न पहुंचे। इसके अलावा पूरे घर के जल जाने तक करीब 50 मिनट तक अपराधी वहीं रुके रहे। रुक-रुक कर उन्होंने दहशत फैलाने के लिए 10 से 12 राउंड गोलियां भी चलाई। संजय के परिवार के चीख-पुकार की आवाज से जगे लोगों ने अपराधियों के जाने के बाद किसी तरह जल रहे लोगों की मदद की। घटना के बाद से ग्रामीणों के चेहरे पर भय देखा जा सकता है। कोई भी कुछ भी बोलने से परहेज़ कर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *