नक्सली सरेंडर करें या मरने को तैयार रहे – राजनाथ सिंह

दुमका, केन्द्रीय गृहमंत्री राजना थ सिंह ने कहा कि नक्सलवाद विकास के बाधक हैं। नक्सली हिंसक रास्ता छोड़कर विकास की मुख्यधारा से जुड़ें। इसके लिए सरेंडर पॉलिसी बनाई गई है। उन्होंने कहा कि बड़े-बड़े नक्सली आलिशान मकानों में जीवनयापन करते हैं और उनके बच्चे बड़े स्कूल एवं कॉलेजों में शिक्षा ग्रहण करते हैं। नक्सली आमलोगों को गुमराह कर रहे हैं। गरीब भोले-भाले आदिवासी बच्चों के हाथ में बंदूक दे रहे हैं। सरकार उन्हें कलम और कंप्यूटर देना चाहती है।

उन्होंने नक्सलियों को चेतावनी देते हुये कहा कि वे सरेंडर करें या मरने को तैयार रहे। जल्द ही पूरे देश से नक्सलवाद का नामों निशान मिटाने से दुनिया की कोई ताकत नहीं रोक सकती है। विकास के रास्ते में रोड़ा अटकाने वालों को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। राजनाथ सिंह शुक्रवार को स्थानीय हवाई अड्डा मैदान में रघुवर सरकार के 1000 दिन पूरे होने के उपलक्ष्य में आयोजित समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे।

राजनाथ सिंह ने कहा कि झारखंड देश के समृद्ध राज्यों में एक है। राज्य में मानव संसाधन एवं प्राकृतिक संपदा से भरा पड़ा है। इन संसाधनों का ठीक तरह से उपयोग होने की स्थिति में झारखंड देश के विकसित राज्यों के श्रेणी में खड़ा होगा। आकड़ों को देख विकास की गति में झारखंड देश में दूसरा स्थान पर है। लोग राज्य को पिछड़े राज्य में शामिल करते हैं | प्रतिभा का घोर अभाव भी बताते रहे हैं ।

उन्होंने व्यवसाय एवं उद्योग के क्षेत्र में राज्य को विकसित बनाने में रघुवर सरकार के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि राज्य एज ऑफ डूइंग बिजनेस के क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ रहा है। बिजनेस के क्षेत्र में झारखंड देश के 29 पायदान से ऊपर चढ़कर सातवें पायदान पर पहुंच चुका है। उन्होंने कहा कि सोचा भी नहीं था कि वर्तमान में विदेशों से झारखंड में पूंजी निवेश को लेकर कंपनियां इतनी आगे आयेंगी। गृहमंत्री ने कहा कि राज्यों का विकास होने से ही देश का विकास होगा।

उन्होंने कहा कि बदलाव की लहर राज्य के जनता के चेहरे पर साफ देखी जा सकती है। इसका श्रेय मुख्यमंत्री के करिश्मायी काम को दिया। उन्होंने कहा कि बदलाव दिखने लगा है और अधिक बदलाव की आश्यकता है। उन्होंने कहा कि 15 साल पूर्व इस जनसभा के माध्यम से भव्य दृष्य देखने की कल्पना भी नहीं कर सकता था। उस समय झारखंड के वीर सिदो कान्हु के धरती दुमका में आया था। सोच भी नहीं सकता था कि झारखंड इस कदर बदलेगा । उन्होंने जनसभा में उपस्थित लोगों से केंद्र एवं राज्य की सरकार को शुभकामनाएं देने के लिए हाथ उठाने की अपील करते हुए कहा कि 17 वर्ष पूर्व अटल बिहारी बाजपेयी की दूरदर्शिता के कारण ही बिहार से अलग झारखंड का निर्माण करवाया गया था। सरकार के 1000 दिन पूरे होने पर सफलतापूर्वक आयोजन पर जनता को शीष झुका नमन किया।

गृहमंत्री ने रघुवर सरकार के योजनाओं को सराहनीय बताते हुए शिकायत निवारण टॉल फ्री नंबर 181 को महत्वपूर्ण बताया। किसान एवं गरीबों को एक रुपये में 35 किलोग्राम अनाज देना काफी महत्वपूर्ण योजना है। प्रधानमंत्री के 13वीं वित्त आयोग से राज्यों को राजस्व 32 फीसदी से बढ़ाकर 42 फीसदी करने के लिए बधाई दी। वहीं झारखंड को 5,52,53 करोड़ से बढ़ाकर सवा लाख से डेढ़ लाख करोड़ सहायता राशि देने की योजना बतायी |

राजनाथ सिंह ने कहा कि केन्द्र और राज्य दोनों जगह सरकार की छवि बेदाग है। पहले की सरकार में भष्ट्राचार के कई आरोप लगे। पर हमारे ऊपर किसी प्रकार का आरोप नहीं लगा। ये कोई छोटी बात नहीं है। राज्यों का विकास होगा तभी देश का विकास होगा। भारत का मस्तक सारे दुनिया में ऊंचा है। 30 करोड़ खाते बैंक में खुले, वह हमारी सरकार ने किया, ताकि गरीबों को लाभ हो। बीमा योजना, उज्जवला योजना का जिक्र करते हुए आजाद भारत के इतिहास में पहली बार 2018 तक 5 करोड़ महिलाओं को गैस सिलेंडर देने एवं गैस खत्म होने पर गैस भरवाने की भी योजना धरातल पर उतार महिलाओं का विशेष ख्याल रखने की बात कही। नोटबंदी पर कहा कि कालाधन रखने वालों के बीच खौफ खड़े हो गये थे। सरकार का लक्ष्य किसानों की आमदनी 2022 तक दोगुनी करने की है और उन्हें उन्नत बीज एवं तकनीकि से लैष कृशि होगी। इसके लिए राज्य सरकार की दीनदयाल उपाध्याय का सपना पूरा करने का काम किया है। हर हाथ को काम, हर खेत को पानी दीनदयाल का सपना रहा, जिसे राज्य सरकार ने पूरा करने हुए राज्य में 73 हजार डोभा का निर्माण करवाया।

राजनाथ सिंह ने कहा कि हिन्दुस्तान का सम्मान दुनिया में बढ़ा है। पहले से देश सुरक्षित महसूस कर रहा हैं। अब कमजोर भारत नहीं रह गया है।
गृहमंत्री राजनाथ सिंह का स्वागत सर्वप्रथम मुख्यमंत्री रघुवर दास ने हैलीपैड लैंड पर उतारते ही पुष्पगुच्छ से सम्मानित किया। गार्ड ऑफ ऑनर के बाद मुख्य अतिथि का स्वागत पारम्परिक रीति-रिवाज लोटा-पानी से किया गया। गृहमंत्री के सम्मान में आदिवासी लोकप्रिय पायका नृत्य एवं कस्तुरबा विद्यालय के छात्राओं ने बैंड बजा से स्वागत किया। भाजपा कार्यकर्ता गृहमंत्री के स्वागत में जिंदाबाद के नारे लगाते रहे। भारत माता की जय, प्रधानमंत्री जिंदाबाद नारे के बीच मुख्य अतिथि गृहमंत्री मंच पर पहुंचे।

राजनाथ सिंह और रघुवर दास ने संयुक्त रूप से इन सभी योजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन किया
1304 करोड़ की 24 सड़कों की नींव रखी गई।
139 करोड़ से बनने वाली 72 ग्रामीण सड़कों का शिलान्यास हुआ।
5481 किमी सड़क एक साथ बनाना शुरू करेगा पथ निर्माण विभाग।
15.92 करोड़ की पेयजल आपूर्ति की तीन योजनाओं की शुरुआत हुई।
5463 करोड़ की स्वास्थ्य सेवा की 55 योजनाएं शुरू हुई।
10 करोड़ की 100 सोलर वाटर पेयजल आपूर्ति योजना शुरू हुई।
18.52 करोड़ से जामताड़ा में बनने वाले केंद्रीय विद्यालय की नींव रखी गई।
33 करोड़की ब्लॉक सह अंचल कार्यालय भवन और पुल-पुलिया की नौ योजनाओं का भी शिलान्यास किया गया।
-1200 करोड़ की दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के तहत 10 योजनाएं शुरू हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *