पश्चिम बंगाल में रहने वाले लोगों के लिए बंगाली भाषा बोलना अनिवार्य है – ममता

कोलकाता, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि उनके राज्य में रहने वाले लोगों को बंगाली भाषा आना अनिवार्य है। नॉर्थ 24 परगना में एक जनसभा को संबोधित करती हुई ममता ने स्पष्ट किया कि भाजपा बहुत ही गलत इरादे से राज्य की शांति को नुकसान पहुंचानें में लग गई है। जिसको रोकने के लिए इस तरह के कदम उठाना जरुरी है।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि जैसे अन्य राज्य में जव वह भी प्रचार में जाती है तो वहां की भाषा में बोलना अच्छा लगता है। जिससे वहां के लोगों के बीच भी संदेश जाता है।

उन्होंने भाजपा पर हमला तेज करते हुए कहा कि उसका बस चलें तो बंगाल को गुजरात बना देंगे। लेकिन उन्होंने चुनौती देते हुए कहा कि जब तक ममता है तब तक उनके मंसूबों पूरा नहीं होने दूंगी। वो एक रेली को संबोधित करते हुए तालियों की गरगराहट के बीच बोली। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा के लोग ही डॉक्टर की हड़ताल करवाकर उनके सरकार को बदनाम करने में लगी हुई है।

इस बीच भाजपा के बंगाल के प्रभारी कैलाश विजवर्गीय ने ट्वीट करके ममता के स्वास्थ्य मंत्री होते हुए डॉक्टरों की हड़ताल पर सवाल खड़ा किया।

हाल ही में लोकसभा चुनाव में राज्य की 42 में से 18 सीटें जीतकर भाजपा का होसला बुलंद है। पार्टी ने संगठन को विस्तार देने के लिए रणनीति बनानी शुरु कर दी है। जानकारों की मानें तो आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए दोनों पार्टी के बीच संघर्ष तेज होने की उम्मीद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *