पीएम मोदी ने आरक्षण खत्म करने की कवायद कर दी शुरू – मांझी

पटना, बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने आरोप लगाया है कि पीएम नरेन्द्र मोदी ने आरक्षण खत्म करने की कवायद शुरू कर दी है। देश के बड़े पदों पर लैटरल इंट्री उसकी एक कड़ी है। निजी कंपनियों में काम करने वाले अब केन्द्र सरकार में संयुक्त सचिव बनाए जाएंगे। इस बहाली में आरक्षण की भी कोई व्यवस्था नहीं होगी।

अपने आवास पर 12 एम. स्ट्रैंड रोड में गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में मांझी ने कहा कि केन्द्र ने ऐसी व्यवस्था कर दी है कि यूपीएससी की परीक्षा में मिले अंक के आधार पर नहीं, बल्कि परीक्षा के बाद ट्रेनिंग में मिले अंक के अधार पर आईएएस, आईपीएस में बहाली होगी। एक तरह से पीएम संविधान बदलने में लग गए हैं।

उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य सरकार भी जनता को भ्रमित कर रही है। कुछ जातियों को एसटी का दर्जा देने की अनुशंसा की गई है। बिहार में अनुसूचित जन जाति को एक प्रतिशत आरक्षण है। उसमें इतनी जातियों को समाहित कर वह किसको लाभ देना चाहती है।

मांझी ने कहा कि हाल के चुनावों में लगे झटके ने राज्य सरकार को शराबबंदी कानून में संशोधन पर विचार करने के लिए विवश किया है। रामविलास पासवान से बताने को कहा कि अनुसूचित जाति के मामले में केन्द्र कब अध्यादेश लाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *