पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा के खिलाफ सोशल मीडिया पर पोस्ट करने के आरोप में दो गिरफ्तार

बेंगलुरु, पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा और उनके परिवार के खिलाफ अपशब्दों से भरा अशोभनीय वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट करने के आरोप में कर्नाटक में दो व्यक्तियों को मंगलवार न्यायिक हिरासत में भेज दिया। दोनों को पुलिस ने शनिवार को गिरफ्तार किया था। बताया जाता है कि दोनों पार्टी के कार्यकर्ता हैं।

पुलिस ने बताया कि सत्तारूढ़ जद (एस) के पदाधिकारी की शिकायत पर दोनों के खिलाफ आईपीसी की धाराओं 504 (शांति भंग करने के इरादे से जानबूझकर अपमानित करना) और 505 (सार्वजनिक रूप से अशांति को भड़काने वाला बयान देने) के तहत शनिवार को गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने बताया कि हाल के लोकसभा चुनाव में जद (एस) के खराब प्रदर्शन से दोनों नाखुश थे और उन्होंने इसके लिए जदएस प्रमुख देवगौड़ा की पारिवारिक राजनीति को जिम्मेदार ठहराया। पुलिस ने दोनों की पहचान सिद्धराजू और चामराजू के रूप में की है। सिद्धराजू एक पेट्रोल पंप पर सहायक जबकि चामराजू कैब चालक है। गिरफ्तारी के बाद दोनों को अदालत में पेश किया गया जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

गौरतलब है कि गिरफ्तार लोगों ने 23 मई को लोकसभा चुनाव के परिणाम आने के बाद फेसबुक लाइव किया था। इस फेसबुक लाइव में उन्होंने कुमारस्वामी, एचडी देवगौड़ा और कुमारस्वामी के बेटे निखिल को कथित रूप से गाली दी थी। शिकायत के आधार पर पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया।

आईटी एक्ट की धारा 66ए चार साल पहले तक यह सरकारों का विरोध की आवाजों को दबाने का सबसे कारगर हथियार था। 2015 से पहले तक ऑनलाइन और ऑफलाइन टिप्पणियों को अलग-अलग देखा जाता था। 66A के अनुसार, कोई भी व्यक्ति जो इंटरनेट पर अपमानजनक, नुकसान पहुंचाने वाली या कानून-व्यवस्था भंग करने वाली सामग्री डालता, उसे तीन साल तक जेल की सजा हो सकती थी। पर 2015 में श्रेया सिंहल बनाम भारत सरकार के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने इस धारा को अंसवैधानिक करार देते हुए खत्म कर दिया था। कोर्ट ने इसे संविधान के अनुच्छेद 19(1)A के तहत प्राप्त अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का उल्लंघन करार दिया था। इस फैसले के बाद फेसबुक, ट्विटर सहित सोशल मीडिया पर की जाने वाली किसी भी कथित आपत्तिजनक टिप्पणी के लिए पुलिस आरोपी को तुरंत गिरफ्तार नहीं किया जा सकता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *