प्रधानमंत्री मोदी ने सबरीमला मुद्दे पर देश को “गुमराह” किया – पिनाराई विजयन

तिरुवनंतपुरम, केरल में सत्तारूढ़ माकपा नीत एलडीएफ ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर अपना हमला तेज करते हुए रविवार को उनपर सबरीमला मुद्दे पर देश को “गुमराह” करने का आरोप लगाया और उनके बयान को “सरासर झूठ” करार दिया।

केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने प्रधानमंत्री पर हमला करते हुए दावा किया कि मोदी ने शनिवार को पड़ोसी राज्यों तमिलनाडु और कर्नाटक में अपनी प्रचार सभाओं में कहा था कि केरल में भगवान अयप्पा या सबरीमला का नाम लेना भक्तों को जेल में पहुंचा देगा।

विजयन ने मोदी के इस बयान को ”सरासर झूठ और ”भ्रामक” बताया। मुख्यमंत्री ने कोल्लम में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा कि यह सरासर झूठ है। कोई प्रधानमंत्री इस तरह की गलत टिप्पणी कैसे कर सकता है ?

विजयन ने कहा कि अगर किसी को गिरफ्तार किया गया था, तो इसलिए क्योंकि वह कानून के खिलाफ गया था। भला हो मोदी के आशीर्वाद का अन्य राज्यों में, हो सकता है कि संघ परिवार के कार्यकर्ता जेल में नहीं जाएं या उनके खिलाफ कोई मामला दर्ज नहीं हो। लेकिन ऐसा केरल में नहीं होगा।”

उन्होंने मोदी पर ”दोहरे मानदंड” अपनाने का आरोप लगाते हुए कहा कि यह केंद्र सरकार थी जिसने पिछले साल सभी आयुवर्ग की महिलाओं के पहाड़ी मंदिर में प्रवेश के खिलाफ विरोध प्रदर्शनों के दौरान राज्य सरकार से सबरीमला में धारा 144 लागू करने के लिए कहा था।” उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने विरोध प्रदर्शनों को रोकने के लिए केंद्रीय बल भेजने की पेशकश भी की थी।

मोदी ने गत 12 अप्रैल को कोझीकोड में सबरीमला या भगवान अयप्पा का कोई सीधा उल्लेख किये बिना कहा था कि भाजपा सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि भक्तों की सदियों पुरानी मान्यताओं की रक्षा हो। वह तमिलनाडु में अपनी प्रचार सभाओं में अधिक प्रत्यक्ष थे। वहां उन्होंने आरोप लगाया कि कम्युनिस्ट, कांग्रेस और मुस्लिम लीग सबरीमला मुद्दे पर एक खतरनाक खेल खेल रहे थे।

मोदी ने आरोप लगाया, “वे विश्वास और अभिव्यक्ति की जड़ों पर प्रहार करने के लिए क्रूर बल का इस्तेमाल कर रहे हैं। उनके लिए दुख की बात है कि जब तक भाजपा है कोई भी हमारे विश्वास और संस्कृति को नष्ट करने में सक्षम नहीं होगा।”

प्रधानमंत्री मोदी ने यह भी उल्लेख किया कि कोझीकोड में भाजपा उम्मीदवार प्रकाश बाबू को सबरीमला मुद्दे पर गिरफ्तार किया गया था और जेल में डाला गया था।

विजयन ने पलटवार करते हुए कहा कि जो कोई भी गलत करेगा, कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि जिन लोगों को सबरीमला मुद्दे पर गिरफ्तार किया गया वे लोग कानून के खिलाफ गए थे। विजयन ने कोल्लम में एलडीएफ उम्मीदवार के एन बालागोपाल के लिए प्रचार करते हुए कहा कि आदर्श आचार संहिता प्रधानमंत्री पर भी लागू होती है। राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी टीकाराम मीणा ने पहले ही स्पष्ट कर दिया था कि राजनीतिक दल वोट के लिए भगवान अयप्पा या सबरीमला का नाम नहीं ले सकते।

विजयन ने कहा कि भाजपा ने अपने अनुयायियों को फोन करके कहा था कि किसी को भी हुंडियों में कोई दान नहीं डालना चाहिए। मुख्यमंत्री ने सवाल किया, ”उन्होंने भक्तों पर हमला करने के लिए पहाड़ी मंदिर में लोगों को क्यों भेजा? हमलावर यहां तक ​​कि शन्नीधाम भी पहुंचे … पुलिसकर्मियों को नारियल से मारा गया। पुलिस को हमलावरों को नियंत्रित करने में बहुत कठिनाई हुई।”

माकपा के प्रदेश सचिव के. बालाकृष्णन ने भी भाजपा पर जमकर निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा कथित तौर पर सांप्रदायिक आधार पर लोगों को विभाजित कर रही है। उन्होंने आरोप लगाया प्रधानमंत्री खुद चुनाव आयोग की अवहेलना कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *