बहराइच से भाजपा सांसद सावित्री बाई फुले ने पार्टी से दिया इस्तीफा

लखनऊ, उत्तर प्रदेश से भाजपा सांसद सावित्रीबाई फुले ने गुरुवार को पार्टी से इस्तीफा देते हुए आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी समाज को तोड़ने का प्रयास कर रही है। यह खबर समाचार एजेंसी एएनआई ने दी है।

फुले ने संवाददाताओं से कहा कि अयोध्या में आरएसएस, विहिप और भाजपा द्वारा मुस्लिम, दलित एवं पिछड़ों की भावना को आहत करते हुए संविधान की धज्जियां उड़ायी जा रही हैं।

उन्होंने स्पष्ट किया कि वह कार्यकाल पूरा होने तक सांसद रहेंगी। सिर्फ पार्टी से इस्तीफा दिया है। सांसद सावित्री बाई फुले गुरुवार को बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर महापरिनिर्वाण दिवस पर लखनऊ के कैपिटल हाल में आयोजित समारोह में बतौर अतिथि शामिल हुईं। इस दौरान उन्होंने भाजपा पर गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि बीजेपी दलित, पिछड़ा व मुस्लिम विरोधी है और आरक्षण खत्म करना चाह रही है।

सावित्रीफुले ने कहा कि बीजेपी देश को मनुस्मृति से चलाना चाहती है। बीजेपी पर देश के संविधान को बदलने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि न तो संविधान लागू किया जा रहा है और न ही आरक्षण।

उन्होंने कहा केंद्र हमारी मांगें नहीं मान रही है क्योंकि सरकार दलित विरोधी है। हनुमान जी को दलित बताए जाने पर सावित्रीबाई फुले ने कहा कि हनुमान जी दलित थे लेकिन मनुवादियों के खिलाफ थे। तभी राम ने उन्हें बंदर बना दिया।

उन्होंने कहा कि पुन: विहिप, भाजपा और आरएसएस से जुड़े संगठनों द्वारा अयोध्या में 1992 जैसी स्थिति पैदा कर समाज में विभाजन एवं सांप्रदायिक तनाव की स्थिति पैदा करने की कोशिश की जा रही है। इसलिए आहत होकर मैं भाजपा की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे रही हूं।

सावित्रीबाई फुले की तरफ से यह कदम उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तरफ से हनुमान की जाति पर की गई टिप्पणी के दो दिन बाद उठाया गया है।

योगी आदित्यनाथ ने अलवर जिले के मालाखेड़ा में चुनावी रैली के दौरान यह कहा था- “बजरंगबली जंगल के निवासी थे जो वंचित और दलित थे। जिन्होंने उत्तर से लेकर दक्षिण तक और पूरब से लेकर पश्चिम तक सभी समुदायों को जोड़ने का काम किया था।”

फुले ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कहा था कि अगर दलित भगवान हनुमान थे जैसे कि यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दावा किया है, तो फिर दलितो को देशभर के हनुमान मंदिरों में पुजारी नियुक्त किया जाना चाहिए।

बहराइच से सांसद चुनी गईं सावित्री बाई फुले ने 2012 में बीजेपी के टिकट पर बलहा (सुरक्षित) सीट से चुनाव जीता था और 2014 में उन्हें सांसद का टिकट मिला और वह संसद पहुंचीं। वह बीजेपी की दलित महिला चेहरा थीं। छह साल की उम्र में उनकी शादी कर दी गई थी लेकिन उनकी विदाई नहीं हुई। इसके बाद बड़े होने पर उन्होंने संन्यास ले लिया।

जब बहराइच की सांसद सावित्रीबाई फुले से राम मंदिर के बारे में पूछा गया, जो काफी समय में सुप्रीम कोर्ट में लंबित है, इस पर जवाब देते हुए फुले ने कहा कि बीजेपी इस मुद्दे को इसलिए उठा रही है क्योंकि उसके बाद कोई अन्य मुद्दे नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *