बिहार के लखीसराय में किऊल नदी में नाव पलटने से करीब 80 लोग डूबे

पटना, बिहार में लखीसराय जिले के पिपरिया प्रखंड के चननियां गांव में किऊल नदी में नाव पलटने से करीब 80 लोग डूब गए। ज्यादातर लोग तैराक होने के कारण बाहर निकल गए, जबकि तीन लोगों को घायल अवस्था में बाहर निकाला गया है। 5 लोग लापता हैं, जिसमें से 2 का शव बरामद कर लिया गया है।

लापता लोगों में मंटू यादव की 18 वर्षीय पुत्री अनीता कुमारी, मनोज शाह की 45 वर्षीय पत्नी उर्मिला देवी, सर्जन राम का 14 वर्षीय पुत्र राकेश कुमार, मंचुन यादव की 22 वर्षीया पुत्री निशा कुमारी, सर्जन यादव की 18 वर्षीय पुत्री सुधा कुमारी शामिल है। वहीं मंटू राम की 28 वर्षीय पत्नी शीला देवी, मंचुन यादव की पुत्री कोमल कुमारी मंटू यादव की पुत्री लक्ष्मी कुमारी को घायल अवस्था में निकाला गया है। तीनों को इलाज के लिए निजी क्लिनिक में भर्ती कराया गया है।

जानकारी के मुताबिक 80 लोग नाव से किऊल नदी पार कर रहे थे। सभी नदी के पार सब्जी तोड़ने जा रहे थे। नाव में पहले से बरसाती पानी भरे होने और ओवरलोड होने के कारण नाव पलट गई। नाव पर सवार ज्यादातर लोग तैराक होने से बाहर निकल गए, जबकि कुछ अन्य लोगों को भी बचाया गया। वहीं 5 लोग डूब गए।

इधर प्रशासनिक आंकड़ों के मुताबिक नाव पर कुल 100 लोग सवार थे। प्रशासनिक स्तर पर घटना के करीब साढ़े पांच घंटे बाद भी किसी तरह की पहल नहीं की गई। गोताखोरों की मदद से मनोज साह की पत्नी उर्मिला देवी और राकेश कुमार का शव बरामद कर लिया गया है।

सूर्यगढ़ा के राजद विधायक प्रह्लाद यादव ने घटना पर दुख जताते हुए प्रशासनिक कार्रवाई की निंदा की है उन्होंने कहा कि घटना का मुद्दा विधानसभा में उठाएंगे।

वहीं सदर एसडीओ मुरली प्रसाद सिंह ने कहा कि दो लोगों का शव बरामद कर लिया गया है। महाजाल की व्यवस्था की गई है, जिससे अन्य शवों की तलाश की जा रही है। एसडीआरएफ की टीम भागलपुर से आ रही है। एक घंटे में पहुंच जाएगी। नाव पर सौ लोग सवार थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *