बेगूसराय में पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ में तीन कुख्यात ढेर

बेगूसराय, बेगूसराय में पुलिस के साथ शनिवार की शाम हुई मुठभेड़ में तीन कुख्यात मार गिराए गए। मुठभेड़ चेरियाबरियारपुर थाना की मेहदा शाहपुर पंचायत के कौआ पोखर के बगीचे के पास मुसहरी बहियार में हुई। इस दौरान दोनों ओर से लगभग 100 राउंड फायरिंग की गई। मारे गए बदमाशों से पुलिस ने एक कारबाइन, दो अत्याधुनिक पिस्टल और भारी संख्या में गोलियां बरामद की गईं हैं।

मृतकों की पहचान धबौली निवासी धर्मा यादव, सर्वोदय नगर निवासी सुमंता और बेगूसराय निवासी बलिराम सहनी के रूप में की गई है। तीनों कुख्यात के शवों को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया गया है।

सूत्रों के अनुसार पुलिस को शनिवार की दोपहर लगभग दो बजे सूचना मिली की चार अपराधी किसी घटना को अंजाम देने की साजिश के लिए जुटे हैं। इसके बाद एसपी अवकाश कुमार के निर्देश पर एएसपी अभियान अमृतेश कुमार के नेतृत्व में पुलिस छापेमारी करने मुसहरी पहुंची। पुलिस से घिरते देख अपराधियों ने ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। जवाब में पुलिस ने भी गोली चलानी शुरू कर दी। शुरुआत में पुलिस ने अपराधियों को घेरना शुरू किया। इस बीच एसपी अवकाश कुमार भी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए। तकरीबन 25-30 जवानों के साथ पूरे इलाके की घेराबंदी शुरू कर दी गई। 100 राउंड से अधिक गोलियां चलीं।

सर्च ऑपरेशन के बाद एसपी अवकाश कुमार ने बताया कि नगर के अपराधी सुमंता के यहां होने की सूचना मिली थी। इसके बाद टीम गठित कर छापेमारी की गई। इस दौरान अपराधियों ने फायरिंग शुरू कर दी। बचाव में पुलिस की तरफ से गोलीबारी की गई।

पुलिस मुठभेड़ में कुख्यात के मारे जाने की घटना लगभग दस साल बाद हुई है। दिनदहाड़े हुई इस मुठभेड़ से जिले में सनसनी फैल गई। इससे पहले आठ अप्रैल 2009 को मुठभेड़ हुई थी। खोदावंदपुर थानाध्यक्ष आरपी वर्मा पर गोली चलाने के बाद कुख्यात बदमाश शम्भू सिंह व उसके साथी सुरेश महतो को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया था। इस घटना में नावकोठी थाना क्षेत्र के पहसारा गांव निवासी कुख्यात बबलू सिंह को गिरफ्तार किया गया था। तत्कालीन एसपी पी कन्न ने खुद मुठभेड़ में मोर्चा संभाला था। थानाध्यक्ष आरपी वर्मा जब लखनपट्टी व रामपुर कचहरी गांव में बदमाशों को पकड़ने के लिए छापेमारी करने गए थे। इसी दौरान मक्का व गेहूं के खेत में छिपे बदमाशों ने उनपर फायरिंग शुरू कर दी थी। थानाध्यक्ष गम्भीर रूप से घायल हो गए थे। मुठभेड़ में क्षेत्र का कुख्यात बदमाश रामपुर कचहरी गांव के राम विलास सिंह का पुत्र शम्भू सिंह तथा छौड़ाही गांव के राम शोभित महतो का पुत्र सुरेश महतो मारा गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *