भारत-अमेरिका संयुक्त सैन्य युद्धाभ्यास के बीच फर्जी सैन्य अधिकारी गिरफ्तार

रानीखेत, भारत-अमेरिका संयुक्त सैन्य युद्धाभ्यास के बीच सेना का अफसर बनकर चौबटिया जाने का प्रयास कर रहे फर्जी सैन्य अधिकारी को सेना पुलिस ने झूला देवी चेकपोस्ट पर पकड़ लिया। सेना की वर्दी पहने इस युवक ने अपनी कार में आर्मी लिखाया था और उसमें कमान अधिकारी का भी बोर्ड लगाया था। सेना पुलिस ने कड़ी पूछताछ के बाद आरोपी को वाहन समेत कोतवाली पुलिस के हवाल कर दिया। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

रविवार को चौबटिया छावनी में भारत-अमेरिका संयुक्त सैन्य युद्धाभ्यास का उद्घाटन समारोह था। चौबटिया मार्ग में झूला देवी स्थित सेना के चेक पोस्ट पर ड्यूटी पर तैनात सैन्य कर्मियों ने इनोवा कार संख्या एचआर 26 एएल-7571 को जांच के लिए रोका। कार के आगे-पीछे के शीशों में बड़े शब्दों में आर्मी लिखा था और आर्मी सीओ का बोर्ड भी लगा था। सेना की वर्दी पहने कार चालक स्वयं को सेना का अधिकारी बताने लगा। कार में कुछ अन्य लोग भी बैठे थे। शक होने पर सैन्यकर्मियों ने उससे गहन पूछताछ की। इस पर युवक फर्जी सैन्यकर्मी निकला।

सेना पुलिस की पूछताछ में आरोपी ने अपना नाम राहुल ठाकुर पुत्र अनिल ठाकुर निवासी ब्रह्मपुरी सैक्टर-1 मेरठ उत्तर प्रदेश बताया। सेना ने आरोपी को वाहन सहित पुलिस के सुपुर्द कर दिया।

कोतवाल नारायण सिंह ने बताया कि आरोपी के खिलाफ धारा 23/118, 140, 467, 468, 71 तहत मुकदमा दर्ज कर विवेचना की जा रही है।

उसने बताया कि वह पेशे से कार चालक है। कार उसके किसी रिश्तेदार की है जिसे कुछ पर्यटकों ने बुक कराया है। उसने सेना पुलिस को बताया कि उसे बचपन से सेना में जाने का शौक था। दो बार सेना में भर्ती होने का प्रयास भी किया, लेकिन सफलता नहीं मिली। उसे सेना की वर्दी पहनने का शौक है।

आप को बता दें भारत और अमेरिका के बीच अब तक के सबसे बड़े संयुक्त सैन्य युद्धाभ्यास ‘युद्ध अभ्यास-2018’ का रविवार को चौबटिया छावनी में भव्य उद्घाटन समारोह के साथ शानदार आगाज हुआ। पहली बार युद्धाभ्यास को डिवीजन हेडक्वार्टर स्तर तक उच्चीकृत किया गया है। भारत और अमेरिका के ध्वजारोहण के साथ दोनों देशों का राष्ट्रगान हुआ। फ्लैग मार्च के बाद संयुक्त सेनाओं ने शानदार मार्चपास्ट कर सलामी दी। 29 सितंबर तक चलने वाले युद्धाभ्यास में भारत की ओर से सूर्य कमांड के 350 सैनिक तथा अमेरिका की ओर से भी बटालियन के इतने ही सैनिक हिस्सा ले रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *