भारत के स्वर्ण युग का इतिहास असल में बिहार का ही इतिहास है – राज्यपाल सत्यपाल मलिक

पटना, राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि बिहार का इतिहास एवं सांस्कृतिक वैभव गौरवपूर्ण रहा है। भारत के स्वर्ण युग का इतिहास असल में बिहार का ही इतिहास है। राज्यपाल ने यह बातें मंगलवार को शिष्टाचार भेंट को पहुंचे विदेश सेवा 1992 एवं 1993 बैच के बिहार मूल के तीन वरीय अधिकारियों से कही। उन्होंने कहा कि विदेशों में भारत के प्रतिनिधि के रूप में देश की प्रतिष्ठा बढ़ाने के लिए कार्य करने के साथ-साथ अफसरों को अपने प्रांत के राजदूत के रूप में भी काम करना चाहिए।

विदेश मंत्रालय द्वारा आयोजित मध्य सेवाकालीन ट्रेनिंग प्रोग्राम के तहत आए इन अफसरों से राज्यपाल ने कहा कि बिहार में उपजाऊ जमीन, पर्याप्त जल तथा परिश्रमी व प्रतिभावान मानव-संपदा है। इसके बल पर राज्य तेजी से प्रगति कर रहा है।

राज्यपाल ने कहा कि बिहार फाउंडेशन का चैप्टर स्थापित कराते हुए वे मॉरीशस, अर्जेन्टीना एवं अमेरिका में रह रहे बिहारियों में अपने राज्य के प्रति अनुराग और प्रेम का भाव बढ़ा सकते हैं।

मलिक ने ‘छठ पर्व की चर्चा करते हुए कहा कि दिल्ली एवं मुम्बई सहित भारत के अन्य प्रांतों में रहने वाले बिहार के लोगों ने छठ को वहां भी लोकप्रिय बना दिया है।

मॉरीशस में भारत के उच्चायुक्त अभय ठाकुर ने बताया कि अपने पूर्वजों की भूमि बिहार और उत्तर प्रदेश के प्रति मॉरीशस के लोगों के दिल में श्रद्धा और सम्मान है। उन्होंने मॉरीशस में 18 से 20 अगस्त तक होने वाले विश्व हिन्दी सम्मेलन के बारे में भी जानकारी दी।

अर्जेन्टीना में राजदूत संजीव रंजन ने बताया कि आधुनिक कृषि के वैज्ञानिक तौर-तरीकों को लेकर अर्जेन्टीना बिहार को सहयोग कर सकता है। राज्य में कृषि विश्वविद्यालयों के माध्यम से किसानों के प्रशिक्षण, नयी तकनीक के आयात आदि पर भी सोचा जा सकता है।

अमेरिका में मिशन उपप्रमुख संतोष झा ने बताया कि अमेरिका में रहने वाले बिहारी मूल के लोगों की बिहार की प्रगति में गहरी दिलचस्पी है। वे यहां के विकास में सहयोग को इच्छुक हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *