राजग एकजुट हो कर विपक्ष की खोले पोल – प्रधानमंत्री मोदी

नई दिल्ली, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने संसद के मानसून सत्र की पूर्व संध्या पर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के घटक दलों का मंगलवार को आह्वान किया कि वे विपक्ष के देशहित के विपरीत एवं समाज को तोडऩे वाले बयानों को जनता के बीच उजागर करने एवं पोल खोलने की एकजुट हो कर रणनीति बनायें।

संसद के पुस्तकालय भवन में राजग के घटक दलों की बैठक के बाद संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने संवाददाताओं से कहा कि बैठक के समापन के मौके पर प्रधानमंत्री ने कहा कि मानसून सत्र में राजग के समक्ष जो चुनौती आने वाली है और विपक्ष जो कीचड़ उछालने वाला है। वे जो देशहित को नजरअंदाज करने और समाज में विघटन लाने वाले बयान दे रहे हैं। उसे जनता के सामने उजागर करना है और उनकी पोल खोलना है। राजग सभी से सहयोग से आगे बढ़े और वह एकजुट होकर इसकी रणनीति बनाये।

कुमार ने कहा कि राजग की अनौपचारिक एवं औपचारिक बैठकें बार-बार होती रहेंगी। उन्होंने कहा कि बैठक में सबसे पहले घटक दलों की ओर से दो प्रस्ताव लाये गये। पहले प्रस्ताव में किसानों को रबी की फसल का लागत का डेढ़ गुना न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) दिये जाने के निर्णय को किसानों की आय दोगुना करने के लक्ष्य की दिशा में अहम माना गया। दूसरे प्रस्ताव में देश की तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था के 2014 में नौवें स्थान से ऊपर छठवें स्थान पर आने की सराहना की गयी। प्रस्तावों में केन्द्र सरकार को और प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व की सराहना की गयी और उनको बधाई दी गयी।

संसदीय कार्य मंत्री के अनुसार सभी सहयोगियों ने कहा कि स्वास्थ्य रक्षा बीमा के लिए आयुष्मान भारत योजना जिसे मोदी केयर भी कहा गया है, को भी अच्छी तरह से लागू किया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने सरकार के प्रदर्शन एवं उपलब्धियों का पूरा श्रेय राजग के सभी घटक दलों और हर सांसद को दिया। उन्होंने चार साल तक एक दिल होकर एक साथ जन कल्याण और किसान हित में काम करने के लिए सभी घटक दलों को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि राजग सभी के सहयोग आगे बढ़ेगा।

कुमार ने कहा कि बैठक में राजग के प्रत्येक घटक दल के नेता उपस्थित थे। भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह शिवसेना के आनंद राव अड़सूल एवं संजय राउत, लोकजन शक्ति पार्टी के रामविलास पासवान, राष्ट्रीय लोकसमता पार्टी के उपेन्द्र कुशवाहा, शिरोमणि अकाली दल आदि दलों के नेताओं के अलावा वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी भी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *