विपक्ष से कोई रणनीतिक चुक हुई तो फिर देश में आम चुनाव होंगे या नहीं, कोई नहीं जानता ?

पटना, तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर इस हवा को और तेज कर दिया है कि महागठबंधन पर संकट मंडरा रहा है।

तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर लिखा कि संविधान और देश पर अभूतपूर्व संकट है। अगर अबकी बार विपक्ष से कोई रणनीतिक चुक हुई तो फिर देश में आम चुनाव होंगे या नहीं, कोई नहीं जानता? अगर अपनी चंद सीटें बढ़ाने और सहयोगियों की घटाने के लिए अहंकार नहीं छोड़ा तो संविधान में आस्था रखने वाले न्यायप्रिय देशवासी माफ़ नहीं करेंगे।

इससे पहले शुक्रवार को नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव ने एनडीए से सवाल किया कि बेरोजगारी पर बात करने में सरकार मे बैठे लोगों का गला क्यों सूख जाता है। उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार देश के सामाजिक स्वरूप को उधेड़ कर अराजकता की ओर मोड़ रही है। दूसरी ओर, देश के आर्थिक विकास के पहिए ही उखाड़ अर्थव्यवस्था को पटरी से उतार दिया है।

जारी बयान में तेजस्वी ने कहा कि रोजगार सृजन से अर्थव्यवस्था का अंदाजा लग जाता है। आरोप लगाया कि यहां तो दो करोड़ नौकरी प्रति वर्ष का नारा लगाने वाले 5 साल में उसके सौवें भाग तक भी वादे को निभा नहीं पाए।

एक रिपोर्ट के अनुसार नोटबंदी ने असंगठित क्षेत्र की 11 करोड़ नौकरियां लील ली।

तेजस्वी ने आरोप लगाया कि संगठित, असंगठित, निजी व सरकारी क्षेत्र सभी की स्थिति बद से बदतर है। नवरत्न कम्पनियों को जानबूझकर नीम हकीम नीतियों से घाटे में धकेला जा रहा है, विनिवेश की जमीन तैयार की जा रही है। आरोप लगाया कि युवाओं का ध्यान भटकाने के लिए सामाजिक सौहार्द के साथ खिलवाड़ हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *