राष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष के उम्मीदवार होंगे यशवंत सिन्हा

नई दिल्ली,                    राष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष के उम्मीदवार के तौर पर पूर्व टीएमसी नेता यशवंत सिन्हा के नाम पर मुहर लग गई है। एनसीपी नेता शरद पवार कि अध्यक्षता में विपक्षी दलों की मीटिंग में यह फैसला लिया गया है। इस बैठक में यशवंत सिन्हा भी मौजूद थे। इससे पहले विपक्ष ने जिन तीन नामों को आगे किया था उन्होंने उम्मीदवार बनने से इनकार कर दिया था। इनमें शरद पावर, फारूक अब्दुल्ला और गोपालकृष्ण गांधी का नाम शामिल था। यशवंत सिन्हा ने पहले ही पार्टी से इस्तीफे की पेशकश की थी। उन्होंने कहा था कि समय आ गया है कि अब वह एक बड़े राष्ट्रीय उद्देश्य के लिए पार्टी से हटकर विपक्षी एकता के लिए काम करें।

कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा कि हम सभी विपक्षी दलों ने मिलकर फैसला किया है कि राष्ट्रपति चुनाव में यशवंत सिन्हा हमारे उम्मीदवार होंगे।  रमेश ने कहा कि यशवंत सिन्हा एक योग्य प्रत्याशी हैं। वह भारत की धर्मनिरपेक्षता और लोकतांत्रिक तानेबाने को मानते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि हमें दुख है कि मोदी सरकार राष्ट्रपति उम्मीदवार पर एक राय बनाने के लिए गंभीर चर्चा नहीं कर सकी। बता दें कि उनके राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बनने की चर्चा तभी से शुरू हो गई थी जब उन्होंने ममता बनर्जी को धन्यवाद देते हुए पार्टी छोड़ने का फैसला कर लिया।

आज भाजपा ने भी राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार तय करने के लिए संसदीय बोर्ड की बैठक बुलाई थी। हालांकि अभी कोई नाम सामने नहीं आया है। इससे पहले एनडीए की तरफ से राष्ट्रपति पद पर एक राय बनाने के लिए राजनाथ सिंह और जेपी नड्डा को विपक्ष से बातचीत करने की जिम्मेदारी दी गई थी। हालांकि सत्ता और विपक्ष में इस पर एक राय नहीं बन पाई।

जानकारों का कहना है कि यशवंत सिन्हा के नाम पर मुहर इसलिए लगाई गई क्योंकि विपक्ष जिनका नाम प्रस्तावित करता था, वे इनकार कर रहे थे। ऐसे में किसी ऐसे चेहरे की जरूरत थी जो कि तैयार भी हो और उसपर विवाद भी न हो। वहीं यह भी कहा जा रहा है कि यशवंत सिन्हा का समर्थन जेडीयू भी कर सकती है क्योंकि वह बिहार से आते हैं। दो बार ऐसा हो चुका है कि नीतीश कुमार ने लीक से हटकर उम्मीदवार का समर्थन किया है। एनडीए का हिस्सा होते हुए भी उन्होंने प्रणव मुखर्जी का समर्थन किया था। वहीं बात करें पिछले चुनाव की तो उन्होंने रामनाथ कोविंद का समर्थन किया जबकि वह उस समय महागठबंधन का हिस्सा थे।

यशवंत सिन्हा लंबे समय से राजनिति से जुड़े हैं। वहीं उनके बेटे जयंत सिन्हा भाजपा सांसद हैं। वह भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी रहे हैं। 24 साल तक उन्होंने इस रूप में सेवा दी। वह देश के वित्त मंत्री और विदेश मंत्री भी रह चुके हैं। हालांकि बाद में उन्होंने भाजपा से इस्तीफा दे दिया। पश्चिम बंगाल में चुनाव से पहले वह टीएमसी में शामिल हो गए थे। राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाए जाने से पहले उन्होंने पार्टी छोड़ दी।

यशवंत सिन्हा का जन्म 6 नवंबर 1937 को पटना में हुआ था। 1960 में वह भारतीय प्रशासनिक सेवा में शामिल हुए। इस दौरान वह कई महत्वपूर्ण पदों पर रहे। एसडीएम और डीएम के रूप में सेवा देने के बाद वाणिज्य मंत्रालय में उप सचिव का भी जिम्मा संभाला। जर्मनी के भारतीय दूतावास में भी उन्होंने कार्य किया। वह फ्रैंकफर्ट में भारत के कौंसुल जनरल रहे।

1984 में उन्होंने भारतीय प्रशासनिक सेवा से इस्तीफा दे दिया और राजनीति में आ गए।  वह जनता पार्टी के सदस्य थे। इसके बाद 1992 में भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए। 2018 तक वह भारतीय जनता पार्टी में रहे। इसके बाद टीएमसी में शामिल हो गए और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाए गए। 84 साल के राजनेता अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में वित्त मंत्री और विदेश मंत्री के पद पर रहे।

वर्तमान में सिन्हा को नरेंद्र मोदी सरकार का आलोचक माना जाता है। उन्होंने मोदी सरकार की नीतियों से असहमत होकर ही भाजपा छोड़ी थी और फिर टीएमसी में शामिल हो गए थे। राफेल केस में मोदी सरकार को क्लीन चिट मिलने पर भी प्रशांत भूषण, अरुण शौरी और यशवंत सिन्हा ने कोर्ट में रिव्यू पिटिशन डाली थी।

You May Also Like

error: ज्यादा चालाक मर्तबान ये बाबू कॉपी न होइए