भारत परिवारवादी राजनीति और परिवारवादी पार्टियों से ऊब चुका है – पीएम मोदी

हैदराबाद,           प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज हैदराबाद में तेलंगाना में डबल इंजन सरकार की बात कहकर भाजपा के दक्षिण में विस्तार की राहें खोलीं। वहीं दूसरी तरफ उन्होंने यह भी कहा कि पार्टी को सिर्फ हिंदुओं के बजाए गरीब और शोषित वर्गों के साथ जुड़ने की भी बात कही। सिर्फ इतना नहीं, पीएम मोदी ने भाजपा नेतृत्व को लंबे समय तक शासन करने वाले अन्य दलों का मजाक उड़ाने से भी मना किया।

उन्होंने कहा कि तेलंगाना के लोग बदलाव चाहते हैं। तेलंगाना डबल इंजन की सरकार चाहता है। तेलंगाना के गरीबों को मुफ्त राशन, गरीबों को मुफ्त इलाज, भाजपा सरकार की नीतियों का लाभ सभी को बिना भेदभाव मिल रहा है। उन्होंने कहा कि यही तो सबका साथ, सबका विकास है।

पीएम मोदी ने कहा कि 2019 के चुनाव में भाजपा ने जितना जनसमर्थन तेलंगाना में हासिल किया था, उसमें निरंतर वृद्धि हो रही है। इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने महिलाओं के लिए खास योजनाओं की भी चर्चा की। पीएम मोदी ने कहा कि देश की महिलाओं को भी आज महसूस हो रहा है कि उनका जीवन आसान हुआ है, उनकी सुविधा बढ़ी है। अब वो राष्ट्र के विकास में अधिक योगदान दे सकती हैं। भाजपा के इसी सेवा भाव का लाभ तेलंगाना के हर गरीब, पिछड़े, दलित और मध्यम वर्ग को मिल रहा है।

उन्होने कहा कि तेलंगाना का विकास, चौतरफा विकास, भारतीय जनता पार्टी की पहली प्राथमिकताओं में से एक है। सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास के मंत्र पर चलते हुए हम तेलंगाना के विकास का निरंतर प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जिस तरह हैदराबाद शहर हर तरह के कौशल की उम्मीदों को उड़ान देता है। उसी तरह भाजपा भी देश की आशाओं, अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए दिन रात मेहनत कर रही है।

कार्यकारिणी की बैठक में पीएम मोदी ने पार्टी को स्पष्ट संदेश दिया कि उसे अब हिंदुओं के साथ अन्य समुदायों पर भी ध्यान देने की जरूरत है। उन्होंने ऐसे समुदायों पर ध्यान देने की बात कही, जो शोषित है और कमजोर है।

प्रधानमंत्री मोदी ने यह बात यूं नहीं कही है। माना जा रहा है कि पीएम की इस बात के पीछे आजमगढ़ और रामपुर लोकसभा उपचुनाव नतीजों का असर है। असल में यह दोनों सीटें भाजपा की परंपरागत सीटें नहीं रही हैं। दोनों ही लोकसभा क्षेत्रों में मुस्लिम वोटरों की बहुलता है। इसके बावजूद जिस तरह से भाजपा ने यहां पर जीत हासिल की है, उसने आगे के लिए उसे रास्ता दिखाया है। माना जा रहा है कि पीएम मोदी ने अपनी बात के जरिए कार्यकर्ताओं को संदेश देने की कोशिश की है वह पसमांदा समाज जैसे पिछड़े और आर्थिक रूप से कमजोर तबके से अपने आपको जोड़े।

प्रधानमंत्री मोदी ने भाजपा नेतृत्व को लंबे समय तक देश पर शासन करने वाली पार्टियों का मजाक बनाने से भी बचने के लिए कहा है। जाहिर सी बात है पीएम मोदी का इशारा भाजपा नेतओं द्वारा अक्सर कांग्रेस पर की जाने वाली टिप्पणियों की तरफ था। पीएम ने कहा कि इन पार्टियों ने लंबे समय तक शासन तो किया लेकिन उन्होंने गलतियां कीं और अब तेजी से पीछे जा रहे हैं। हमें इससे सबक सीखना है और उनके जैसी गलतियां नहीं दोहरानी हैं। उन्होंने यह भी कहा कि भारत परिवारवादी राजनीति और परिवारवादी पार्टियों से ऊब चुका है।

बता दें कि तेलंगाना में अगले साल के अंत तक चुनाव होने वाले हैं। इसको देखते हुए भाजपा इस राज्य में अपने आप को मजबूत करना चाहती है। भाजपा द्वारा राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक का हैदराबाद में आयोजन की इसी दिशा में उठाया गया कदम कहा जा सकता है। इस बैठक में भाजपा के शीर्ष नेतृत्व के साथ-साथ पीएम मोदी भी मौजूद थे।

You May Also Like

error: ज्यादा चालाक मर्तबान ये बाबू कॉपी न होइए