कांग्रेस नेता कुलदीप बिश्नोई ने थामा भाजपा का दामन

चंडीगढ़,           हरियाणा कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे कुलदीप बिश्नोई ने पत्नी रेणुका सहित भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया है। गुरुवार को उन्होंने पार्टी की सदस्यता ली। बुधवार को ही उन्होंने आदमपुर विधायक के तौर पर इस्तीफा दिया था। खास बात है कि कांग्रेस ने उन्हें जून में ही निष्कासित कर दिया था। उन्होंने राज्यसभा चुनाव में भी क्रॉस वोटिंग की थी। कुलदीप बिश्नोई ने विधायक पद छोड़ने के बाद भाजपा का दामन थाम लिया है।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने भाजपा मुख्यालय में उनका पार्टी में स्वागत किया। उन्होंने कहा कि बिश्नोई का आना संगठन की मदद करेगा। उन्होंने बताया कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व का समर्थन कर रहे थे और हाल के राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस में रहते हुए भी भाजपा का समर्थन किया था।

इस दौरान आदमपुर के पूर्व विधायक ने भी पीएम मोदी की तारीफ की और कहा कि उन्हें ‘भारत का सबसे अच्छा प्रधानमंत्री’ कहना गलत नहीं होगा, जो हमेशा देश और गरीबों के कल्याण के बारे में सोचते हैं।

इधर, 10 जून को भी उन्होंने राज्यसभा चुनाव में क्रॉस वोटिंग की थी। उस चुनाव में कांग्रेस ने अजय माकन को उम्मीदवार बनाया था। जबकि, भाजपा और जननायक जनता पार्टी (JJP) समर्थित उम्मीदवार कार्तिकेय शर्मा की जीत हुई थी। इसके अगले ही दिन उन्हें पार्टी के सभी पदों से हटा दिया गया था।

हालांकि, बिश्नोई ने यह साफ किया है कि आदमपुर उपचुनाव में उम्मीदवार को लेकर भाजपा फैसला लेगी। उन्होंने कहा था कि वह और राज्य के लोग चाहते हैं कि बेटा भव्य चुनाव लड़े।

कुमारी सैलजा के कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद कुलदीप बिश्नोई प्रदेशाध्यक्ष बनना चाहते थे। परंतु पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा उनकी राह का रोड़ा बने और उदयभान को कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष बनवा दिए। इससे कुलदीप नाराज हो गए और राहुल गांधी से मिलने का समय मांगा। परंतु मुलाकात नहीं हुई और अंतरात्मा की आवाज पर राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार के खिलाफ वोट किया।  खबर है कि उनके बेटे भव्य बिश्नोई आदमपुर सीट पर उपचुनाव में भाजपा के टिकट पर मैदान में उतर सकते हैं।

राज्य में कांग्रेस की जीत के बाद जब भूपेंद्र सिंह हुड्डा को मुख्यमंत्री पद के लिए तरजीह दी गई थी, तो साल 2007 में बिश्नोई और उनके पिता भजन लाल ने हरियाणा जनहित कांग्रेस लॉन्च की थी। खास बात है कि पार्टी को कुछ सफलता भी मिली, लेकिन अधिकांश विधायकों ने उनका साथ छोड़कर कांग्रेस का रुख कर लिया था। 2016 में बिश्नोई ने JHC का कांग्रेस में विलय कर लिया था।

 

 

 

You May Also Like

error: ज्यादा चालाक मर्तबान ये बाबू कॉपी न होइए