आरसीपी सिंह ने पार्टी में रहते हुए करोड़ों रुपये की बेहिसाब संपत्ति बनाई – जदयू

पटना,                  पूर्व केंद्रीय मंत्री आरसीपी सिंह पर जनता दल (यूनाइटेड) जेडीयू ने बड़ा आरोप लगाया है। जदयू का कहना है कि आरसीपी सिंह ने पार्टी में रहते हुए करोड़ों रुपये की बेहिसाब संपत्ति अपने और अपने परिवार नाम कर दी। बिहार जदयू के अध्यक्ष उमेश सिंह कुशवाहा ने आरसीपी सिंह को कारण बताओ नोटिस भेजकर अकूत संपत्तियों और अनियमितताओं पर जवाब मांगा है। जदयू के इस नोटिस बिहार में राजनीतिक घमासान मच गया है।

जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे आरसीपी सिंह के लंबे समय से पार्टी आलाकमान से संबंध खराब चल रहे हैं। इसी वजह से उन्हें राज्यसभा का टिकट नहीं मिला और फिर केंद्रीय मंत्री का पद गंवाना पड़ा था। फिलहाल आरसीपी सिंह के पास पार्टी और सरकार में कोई पद नहीं है। अब जेडीयू नेतृत्व ने ही उनपर गंभीर आरोप लगाए हैं।

प्रदेशाध्यक्ष द्वारा आरसीपी सिंह को लिखे गए पद में कहा गया है कि नालंदा जिले के दो जेडीयू नेताओं ने सबूतों के साथ उनके खिलाफ शिकायत की है। इसमें कहा गया कि आरसीपी सिंह ने उनके और उनके परिवार के नाम पर साल 2013 से 2022 के बीच अकूत अचल संपत्ति निबंधित कराई। इसमें कई तरह की अनियमितताएं नजर आ रही हैं।

उमेश सिंह कुशवाहा ने आरसीपी से कहा कि आपने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ अधिकारी और राजनेता के रूप में काम किया। दो बार आपको राज्यसभा भेजा गया। जेडीयू का राष्ट्रीय महासचिव और फिर राष्ट्रीय अध्यक्ष की जिम्मेदारी दी गई। केंद्र में मंत्री के रूप में काम करने का भी मौका मिला। इस दौरान सीएम नीतीश ने आपका भरपूर साथ दिया। मुख्यमंत्री जीरो टॉलरेंस नीति पर काम करते हैं और इतने बड़े नेता होने के बावजूद उनपर कोई दाग नहीं लगा और न ही कोई संपत्ति बनाई।

जेडीयू ने अकूत संपत्ति के मामले में आरसीपी सिंह से जवाब मांगा है। प्रदेशाध्यक्ष उमेश सिंह ने कहा कि वे जल्द से जल्द उनके और उनके परिवार से जुड़ी संपत्ति के मामले में अपनी राय स्पष्ट करें।

साल संपत्ति खरीददार
2011 मौजा- शेरपुर मालती, खाता-67, प्लॉट- 4698, 4562 लता सिंह, लिपि सिंह, पिता- रामचंद्र प्रसाद सिंह
2011 मौजा- शेरपुर मालती, खाता-178, प्लॉट- 3787 लता सिंह, लिपि सिंह, पिता- रामचंद्र प्रसाद सिंह
2013 मौजा- शेरपुर मालती, खाता-4, प्लॉट- 4483 लता सिंह, लिपि सिंह, पिता- रामचंद्र प्रसाद सिंह
2013 मौजा- शेरपुर मालती, खाता-115, प्लॉट- 5847 लता सिंह, लिपि सिंह, पिता- रामचंद्र प्रसाद सिंह
2014 मौजा- शेरपुर मालती, खाता-372, प्लॉट- 4149 गिरजा सिंह, पति- रामचंद्र प्रसाद सिंह
2014 मौजा- शेरपुर मालती, खाता-115, प्लॉट- 3751 गिरजा सिंह, पति- रामचंद्र प्रसाद सिंह
2014 मौजा- शेरपुर मालती, खाता-270, प्लॉट- 4158 गिरजा सिंह, पति- रामचंद्र प्रसाद सिंह
2014 मौजा- शेरपुर मालती, खाता-270, प्लॉट- 3706 गिरजा सिंह, पति- रामचंद्र प्रसाद सिंह
2014 मौजा- शेरपुर मालती, खाता-270, प्लॉट- 3681 गिरजा सिंह, पति- रामचंद्र प्रसाद सिंह
2015 मौजा- शेरपुर मालती, खाता-379, प्लॉट- 3711 गिरजा सिंह, पति- रामचंद्र प्रसाद सिंह
2015 मौजा- महमदपुर, खाता-68, प्लॉट- 3264 गिरजा सिंह, पति- रामचंद्र प्रसाद सिंह
2015 मौजा- शेरपुर मालती, खाता-304, प्लॉट- 3738 गिरजा सिंह, पति- रामचंद्र प्रसाद सिंह
2015 मौजा- शेरपुर मालती, खाता-235, प्लॉट- 3695 गिरजा सिंह, पति- रामचंद्र प्रसाद सिंह
2015 मौजा- शेरपुर मालती, खाता- 426, प्लॉट- 4417 गिरजा सिंह, पति- रामचंद्र प्रसाद सिंह
2015 मौजा- शेरपुर मालती, खाता- 418, प्लॉट- 4528 गिरजा सिंह, पति- रामचंद्र प्रसाद सिंह
2017 मौजा- शेरपुर मालती, खाता- 67, प्लॉट- 3745 गिरजा सिंह, पति- रामचंद्र प्रसाद सिंह
2018 मौजा- शेरपुर मालती, खाता- 249, प्लॉट- 5877 (बिक्री करने वाले का नाम -बनारस प्रसाद) लता सिंह, पति- रामचंद्र प्रसाद सिंह
2018 मौजा- शेरपुर मालती, खाता- 86, प्लॉट- 3757 लता सिंह, पति- रामचंद्र प्रसाद सिंह
2018 मौजा- शेरपुर मालती, खाता- 249, प्लॉट- 5877 (बिक्री करने वाले का नाम अलग- दारो देवी) लता सिंह, पति- रामचंद्र प्रसाद सिंह
2019 मौजा- शेरपुर मालती, खाता- 3, 219…प्लॉट- 4461, 4091 लता सिंह, पति- रामचंद्र प्रसाद सिंह

जदयू ने अपनी इस लिस्ट में 2015 तक आरसीपी सिंह पर पत्नी का नाम गिरजा सिंह और उसके बाद 2018 से पत्नी का नाम लता सिंह बताकर हेरफेर का आरोप भी लगाया है। यही नहीं, इन संपत्तियों की फेहरिस्त इस साल यानि 2022 तक जाती है।

ने इन्हीं संपत्तियों की लिस्ट देकर आरोप लगाया है कि आरसीपी ने अपने चुनावी हलफनामे में भी इनका जिक्र नहीं किया। अब सवाल उठ रहे हैं कि आगे क्या? सियासी गलियारे में चल रही सुगबुगाहट को माने तो चर्चा है कि आरसीपी सिंह आईएएस रह चुके हैं। ऐसे में वो भी अपने तरकश से दस्तावेजों का तीर निकाल सकते हैं।

‘अधिकारी कितना भी गलती करता रह जाए, कितने भी गंभीर मामलों से जुड़ा हो लेकिन कोई उसका बाल बांका नहीं कर सकता क्योंकि उसने RCP टैक्स देने का काम किया है।’ 2018 में तेजस्वी यादव ने एक टीवी इंटरव्यू में आरसीपी सिंह की हैसियत को कुछ इस तरह बयां किया था। मतलब बिहार में अगर कुछ ‘बड़ा’ करना है तो बिना आरसीपी सिंह का पत्ता भी नहीं खड़क सकता। सरकार से लेकर पार्टी तक में रामचंद्र प्रसाद सिंह (आरसीपी सिंह) का सिक्का चलता था। अफसर से लेकर उद्योगपति तक आरसीपी सिंह को नजरअंदाज नहीं कर सकते थे।

जेडीयू संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा ने शनिवार को कहा कि प्रथम दृष्टया यह भ्रष्टाचार का मामला लग रहा है। हालांकि उन्होंने कहा कि आरसीपी सिंह का पक्ष आने के बाद ही किसी निष्कर्ष पर पहुंचा जा सकता है।

उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि नोटिस के जरिए जानने की कोशिश की गई है कि जो ब्योरा पार्टी को प्राप्त हुई है, आपका (RCP सिंह) का क्या कहना है। इसलिए पार्टी की ओर से उन्हें नोटिस दिया गया है। उन्होंने जो भी जमीन खरीदी है उसका एफिडेविट में जिक्र नहीं है तो यह चुनाव आयोग का मामला बनता है। यह मामला चुनाव आयोग को देखना चाहिए। यह सबको मालूम होना चाहिए कि हमारे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और हमारी सरकारी भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस की नीति पर चलती है। इस संबंध में सरकार से संबंधित किसी व्यक्ति पर अगर इस तरह का आरोप लगता है तो स्वभाविक रूप से यह गंभीर है। जल्द से जल्द उन्हें (RCP सिंह) पूरे मसले पर अपनी बात रखनी चाहिए।

कुशवाहा ने आगे कहा कि अभी जो भी उनपर आरोप है कि कहां से संपत्ति आई, कैसे आई यह सब जांच का विषय है। लेकिन इतना सबको मालूम है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ऐसी चीजों को कतई बर्दाश्त नहीं करते हैं। स्वभाविक रूप से अगर किसी ने साथ रहकर भी ऐसा किया है तो इसमें दो बातें हो सकती है। या तो नीतीश कुमार की जानकारी के बिना ऐसा किया गया होगा या फिर उनसे दूर हटने के बाद ऐसा किया गया होगा। लेकिन पूरी बात जांच के बाद ही पता चल पाएगी। अगर पार्टी के किसी सदस्य के बारे में कोई सूचना आती है तो पार्टी की जिम्मेदारी बनती है जिनके बारे में सूचना है उन्हें इस बात से अवगत कराया जाए। प्रथम दृष्टया यह मामला भ्रष्टाचार जैसा दिखता ही है। अंतिम निष्कर्ष पर अभी पहुंचना संभव नहीं है, जब तक उनका पक्ष सामने ना आ जाए। हम लोग उनकी बात आने का इंतजार करेंगे।

उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि पार्टी का दायित्व है कि सामने वाले को मौका दिया जाए। अगर जवाब से संतुष्ट नहीं होंगे तो अगला कदम उठाया जाएगा। आवश्यकता अनुसार किसी भी जांच एजेंसी से मामले की जांच कराई जा सकती है।

आरसीपी सिंह के समर्थकों की ओर से ‘बिहार का सीएम कैसा हो, आरसीपी सिंह जैसा हो’ जैसी नारेबाजी पर कुशवाहा ने कहा कि जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने इसपर अपनी बात स्पष्ट कर दी है। उन्होंने कहा कि पार्टी के अंदर रहकर अगर कोई ऐसी नारेबाजी करता है तो सरासर गलत है। पार्टी ऐसी चीजों को कतई बर्दाश्त नहीं करेगी।

वहीं लोक जनशक्ति पार्टी (राम विलास) के अध्यक्ष चिराग पासवान ने कहा कि आरोप लगाने से काम नहीं चलेगा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पूरे मामले की जांच करवाकर तथ्य जनता के सामने रखना चाहिए।लोक जनशक्ति पार्टी (राम विलास) के अध्यक्ष चिराग पासवान ने कहा कि एक बात स्पष्ट है कि जेडीयू आज की तारीख में दो गुटों में बंटी हुई पार्टी है। एक गुट बीजेपी का समर्थन करता है और दूसरा किसी भी कीमत में बीजेपी का भला नहीं चाहता है। यही आरसीपी सिंह केंद्र सरकार में जेडीयू का प्रतिनिधित्व कर रहे थे। सीएम नीतीश कुमार को यह भूलना नहीं चाहिए कि आरसीपी सिंह उनकी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रह चुके हैं। सवाल उठता है कि तथाकथित रूप से जिस मुख्यमंत्री के बारे में कहा जाता था कि वह भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस नीति रखते हैं क्या वह आरसीपी सिंह के कारनामे को टॉलरेंट कर रहे थे। क्या नीतीश कुमार अपनी पार्टी के केंद्र में बने मंत्री का भ्रष्टाचार टॉलरेंट कर रहे थे।

चिराग ने कहा कि हकीकत यह है कि आज के डेट में जब आरसीपी सिंह की नजदीकी बीजेपी से होती है, तो जेडीयू की ओर से उनपर भ्रष्टाचार का आरोप डाल दिया जाता है। आरोप क्यों लगा रहे हैं, जांच कीजिए आपकी सरकार है तो तथ्य सामने दीजिए।

तेजस्वी यादव तो विधानसभा में आरसीपी टैक्स का नाम लेकर नीतीश सरकार को घेर चुके हैं। उन्होंने एकबार सदन में कहा था कि बिहार में आरसीपी टैक्स लिया जाता है। भारत की कर प्रणाली में इस तरह के किसी टैक्स का कोई प्रावधान नहीं है लेकिन ये विशेष किस्म का टैक्स सिर्फ बिहार में लिया जाता है। नीतीश सरकार के कामकाज पर हमला करने के लिए अक्सर तेजस्वी आरसीपी टैक्स का नाम लेते हैं। एक बार उन्होंने कहा था कि बिहार में बस आरसीपी टैक्स सही से लिया जाता है। हालांकि उनकी बातों पर हमेशा जेडीयू आपत्ति जताती थी।

तेजस्वी यादव अक्सर कहा करते थे कि अधिकारियों की ट्रांसफर-पोस्टिंग में आरसीपी टैक्स देना होता है। अधिकारी कितना भी गलती करता रह जाए, कितने भी गंभीर मामलों से जुड़ा हो लेकिन कोई उसका बाल बांका नहीं कर सकता क्योंकि उसने RCP टैक्स देने का काम किया है। इससे पहले भी तेजस्वी यादव ने RCP टैक्स को लेकर अलग-अलग मंचों से इस तरह का बयान दिया था।

मधुबनी में तेजस्वी यादव ने कहा था कि बिहार में एक अलग तरह का टैक्स लगता है, जो RCP टैक्स है। इसके तहत रिश्वत की खुलेआम वसूली की जा रही है।

अब समय का चक्र उल्टा घूम चुका है। आरसीपी टैक्स की बात नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव नहीं कर रहे हैं। अब तो आरसीपी सिंह की पार्टी ने ही उनसे सफाई मांगी है। बिहार विधानसभा में आरसीपी का नाम लेकर नीतीश कुमार पर हमला करनेवाले तेजस्वी यादव खामोश हैं। उनकी पार्टी आरजेडी ने भी कुछ खास नहीं कहा। सोशल मीडिया पर तेजस्वी ने न तो आरसीपी सिंह के बारे में कुछ कहा और ना ही नीतीश के बारे में। आरसीपी सिंह की पार्टी जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष ने उनसे 40 बीघा जमीन पर सफाई मांगी है। मगर आरजेडी का पूरा कुनबा खामोश है।

You May Also Like

error: ज्यादा चालाक मर्तबान ये बाबू कॉपी न होइए