सृजन घोटाला में अमित कुमार और रजनी प्रिया को ढूंढ़़ने के अंतिम प्रयास में जुटी सीबीआई

भागलपुर,             सृजन घोटाला में दर्ज दो दर्जन से ज्यादा मामलों में नामजद अमित कुमार और उनकी पत्नी रजनी प्रिया को ढूंढ़़ने के अंतिम प्रयास में सीबीआई फिर जुट गई है। अमित और रजनी एनजीओ सृजन महिला विकास सहयोग समिति लिमिटेड की पूर्व सचिव व मुख्य आरोपी मनोरमा देवी (अब मृत) का बेटा और बहू हैं। सृजन मामले में दर्ज 31 मामले में अमित 26 और रजनी प्रिया 29 मुकदमे में नामजद हैं। 20 मामले में दोनों पर चार्जशीट दाखिल है।

सूत्रों ने बताया कि अमित और रजनी की तलाश तो अरसे से हो रही है। दोनों पर लुकआउट वारंट भी जारी है, लेकिन एजेंसी अब तक न उसका ठिकाना ढूंढ़ पाई और न ही उसे मृत साबित कर पाया। अब हाईकोर्ट में स्टेटस रिपोर्ट दाखिल की जानी है, जिसने सीबीआई की परेशानी बढ़ा दी है। ऐसे में दोनों की स्थिति का जिक्र जरूरी हो गया है। इसलिए वस्तुस्थिति का पता करने सीबीआई जल्द बेऊर जेल में बंद अमित व रजनी प्रिया के कुछ करीबियों व रिश्तेदारों से बात करेगी। शायद कुछ क्लू मिल जाए। कुछ माह पहले दोनों के नेपाल के पोखरा या महाराष्ट्र के पुणे में छिपे होने की जानकारी एजेंसी को मिली थी। चार माह पहले टीम पुणे गई थी, लेकिन ठोस सुराग नहीं मिलने पर टीम बैरंग लौट आई।

सूत्रों ने बताया कि दोनों आरोपियों के नाम की चल संपत्तियां और बैंक खातों को काफी पहले ही सीबीआई ने सीज कर लिया था। अभी दोनों की चल संपत्तियां ईडी के हवाले है। ईडी की जब्त संपत्तियों पर कुर्की वारंट भी नहीं हो सकता है। दोनों को मृत साबित करने के लिए सीबीआई को फिर लंबी कानूनी प्रक्रिया से गुजरना होगा, जिस पर सीबीआई अधिकारी वकील से कानूनी सलाह ले रहे हैं।

 

You May Also Like

error: ज्यादा चालाक मर्तबान ये बाबू कॉपी न होइए