सीबीआई, इनकम टैक्स, ईडी के लोगों आओ, मेरे घर में दफ्तर खोल लो – तेजस्वी यादव

पटना,                      बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अगुवाई में दूसरी बार महागठबंधन सरकार के उप मुख्यमंत्री बने राजद नेता तेजस्वी यादव ने गुरुवार को मीडिया से बात करते हुए केंद्रीय जांच एजेंसियां सीबीआई, ईडी और इनकम टैक्स को खुला चैलेंज करते हुए कहा कि मेरा न्योता है सीबीआई, इनकम टैक्स और ईडी को कि आओ, आकर मेरे घर में ही अपना दफ्तर खोल लो।

तेजस्वी यादव ने कहा कि अब हम वो तेजस्वी यादव नहीं हैं जिसको मूंछ भी नहीं था तब सीबीआई ने केस किया था। इतने दिन हो गए, क्या हुआ उसमें। अब तो हमारे पास सात साल का अनुभव है। इसमें दो बार नेता विरोधी दल रह लिए, दो बार डिप्टी सीएम बन गए।

तेजस्वी यादव ने मीडिया के सवाल के जवाब में कहा कि करने दीजिए ना भाई सीबीआई, ईडी, इनकम टैक्स. आओ भैया, मोस्ट वेलकम. हम तो न्योता देते हैं सीबीआई, इनकम टैक्स के लोगों को, ईडी के लोगों को कि आओ मेरे घर में दफ्तर खोल लो।

पत्रकारों ने कहा कि बीजेपी ने कहा कि आरजेडी-जेडीयू की दोस्ती सांप और नेवले की दोस्ती जैसी है तो तेजस्वी ने कहा कि जिनकी छाती पर सांप लोट रहा है वो और क्या बोलेंगे। ये वो लोग हैं जो नीतीश कुमार के डीएनए को लेकर बहुत ही घटिया बातें करते थे। 17 साल रहे सरकार में तो बिहार को विशेष राज्य का दर्जा क्यों नहीं दिलवा दिया। पीएम नरेंद्र मोदी जो वादा करके गए थे वो सब पूरा करवाने के लिए दिल्ली में धरना क्यों नहीं देते हैं।

तेजस्वी ने कहा कि भाजपा ने लोगों की मुस्कान छीन रखी थी और महागठबंधन सरकार बनने पर गांव-गांव में लोग खुश हैं। उन्होंने कहा कि बिहार के लोगों का प्यार और आशीर्वाद जो मिल रहा है, वो बड़ी जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि महागठबंधन ही असली गठबंधन है और इसकी सरकार पढ़ाई, दवाई, कमाई, सिंचाई, सुनवाई और कार्रवाई वाली सरकार साबित होगी।

पत्रकारों के क्या करेंगे, कब करेंगे जैसे सवाल दर सवाल के जवाब में तेजस्वी यादव ने कहा कि पैदा हुए नहीं, मरने की तारीख पूछ रहे हैं। दरअसल, वहां मौजूद पत्रकार तेजस्वी से सरकार के चलने की संभावना, 10 लाख नौकरी जैसे वादों पर सवाल पर सवाल पूछ रहे थे। इस पर तेजस्वी यादव ने कहा कि ट्रस्ट वोट होने दीजिए, बहुमत परीक्षण के बाद सरकार काम शुरू कर देगी। उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल विस्तार के बाद सरकार का पूरी तरह गठन होने के बाद हम लोग काम पर लग जाएंगे।

उप मुख्यमंत्री पद के शपथ लेने के एक दिन बाद गुरुवार को तेजस्वी यादव दिल्ली के लिए रवाना हो गए। वहां वे अपने पिता लालू यादव से आशीर्वाद लेंगे। बताया जाता है कि मंत्रिमंडल में राजद कोटे से किन चेहरों को शामिल किया जाएगा उसके लेकर राजद सुप्रीमो से सहमति लेंगे। बताया जाता है कि वो अपनी बहन और राज्यसभा सांसद मीसा भारती समेत अन्य बहनों से शुक्रवार को राखी भी बंधवाएंगे।

सूत्रों के मुताबिक नीतीश-तेजस्वी की सरकार में राजद कोटे से तेज प्रताप यादव, डॉ॰ रामानंद यादव, अवध बिहारी चौधरी (अगर विधान सभा अध्यक्ष नहीं बने, तब), भाई वीरेन्द्र, सुनील सिंह, आलोक कुमार मेहता, ललित यादव, अनिता देवी, जीतेन्द्र कुमार राय, अनिल सहनी, चंद्रशेखर, भारत भूषण मंडल, वीणा सिंह, रणविजय साहू, कुमार सर्वजीत, अनिल सहनी, अख्तरुल इस्लाम शाहीन, सुरेन्द्र राम, केदार सिंह ,बच्चा पांडेय, राहुल तिवारी, कार्तिक सिंह, सौरभ कुमार को मंत्री बनाया जा सकता है।

भाजपा सांसद सुशील मोदी ने सीएम नीतीश कुमार का बिना नाम लिए सवालिए लहजे में कहा कि वह बिहार में 12 साल तक उप मुख्यमंत्री रहे, लेकिन सरकार को न मुझे बुलेट प्रूफ गाड़ी देने की जरूरत महसूस हुई, न जेड-प्लस सुरक्षा की। मामूली सुरक्षा के बीच मैंने 1, पोलो रोड के सरकारी आवास से लंबे समय तक जनता की सेवा की। कहा कि जिनका राजपाट आते ही जनता सहम जाती है, भला उनको किससे इतना खतरा है कि सुरक्षा बढ़ायी जा रही है?

उन्होंने कहा कि अब के उप मुख्यमंत्री पहले ही कार्यकाल में 5, देशरत्न मार्ग वाले सरकारी आवास में 46 एसी लगवा चुके हैं। गरीबों के मसीहा ने पद से हटने के बाद भी आलीशान बंगला न छोड़ने के लिए सुप्रीम कोर्ट तक लड़ाई लड़ी, लेकिन दाल नहीं गली। उन्हें लगता था कि जो बंगला एक राजकुमार के लायक बनाया गया, उसमें दूसरा कैसे रह सकता है? उन्हें एनडीए का उप मुख्यमंत्री तो बीपीएल स्तर की सुविधा के लायक लगता था।

सुशील मोदी ने कहा कि मुख्यमंत्री जी अपने नौजवान उप मुख्यमंत्री को जिस तरह हाथ पकड़कर कुर्सी तक ले जाते दिखे, उससे साफ है कि डी-फैक्टो सीएम कौन है और कौन एहसान तले दबा हुआ। कुर्सी वही होती है, लेकिन बैठने वाले का भाग्य अलग-अलग होता है। उन्होने कहा कि महागठबंधन -2 में भी बड़े राजकुमार को छोटी कुर्सी मिलेगी, लेकिन उन्हें उनकी पसंद का स्वास्थ्य विभाग ही मिलना चाहिए। इलाज बेहतर हो या न हो, कम से कम जनता का मनोरंजन होते रहना चाहिए।

 

You May Also Like

error: ज्यादा चालाक मर्तबान ये बाबू कॉपी न होइए