आप विधायक अमानतुल्लाह ने ही मेरे घर में रखा था हथियार और नकदी – हामिद अली खान

नई दिल्ली,                    दिल्ली वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष और आप के विधायक अमानतुल्लाह खान पर दिल्ली वक्फ बोर्ड में भ्रष्टाचार करने का आरोप है। दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने अमानतुल्लाह खान को शनिवार को चार दिन की एसीबी की कस्टडी में भेज दिया है। अब चार दिन बाद ही उनकी जमानत पर सुनवाई होगी।दिल्ली एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) ने शुक्रवार को हुई छापेमारी में लाखों का कैश और हथियार बरामद होने के बाद अमानतुल्लाह खान के करीबी हामिद अली खान को गिरफ्तार कर लिया है।

एसीबी सूत्रों ने बताया कि ‘आप’ विधायक अमानतुल्लाह खान के करीबी हामिद अली खान ने एसीबी को बताया है कि अमानतुल्लाह ने ही उसके घर में हथियार और नकदी रखी थी और सभी लेन-देन उनके निर्देश पर किए गए थे।

एसीबी ने शुक्रवार को दिल्ली वक्फ बोर्ड में भर्ती में कथित अनियमितताओं के सिलसिले में चार जगहों पर छापेमारी की थी और वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष अमानतुल्लाह खान को गिरफ्तार कर लिया था। एसीबी ने जिन जगहों पर छापेमारी की थी उनमें हामिद अली की संपत्ति भी शामिल थी।

एसीबी ने जामिया नगर निवासी हामिद अली के घर से बिना लाइसेंस वाला एक हथियार, 12 लाख रुपये कैश और कुछ कारतूस बरामद किए थे। हामिद अली को दक्षिण-पूर्वी जिला पुलिस ने आर्म्स एक्ट के तहत गिरफ्तार किया है।

पुलिस द्वारा एसीबी की छापेमारी के बाद तीन एफआईआर दर्ज की गई हैं जिनमें से एक मामला हामिद अली (54) के खिलाफ दर्ज किया गया है, जो बिना लाइसेंस वाला हथियार और कुछ कारतूस बरामद होने के संबंध में दर्ज किया गया है। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस मामले में हामिद अली को गिरफ्तार कर लिया गया है।

वहीं, दूसरी एफआईआर आर्म्स एक्ट के तहत जोगाबाई एक्सटेंशन निवासी कौशर इमाम सिद्दीकी के खिलाफ दर्ज की गई है। सिद्दीकी के घर से एक देशी पिस्तौल और तीन कारतूस बरामद हुए थे। हालांकि, अभी उसे गिरफ्तार नहीं किया जा सका है।

छापेमारी के दौरान एसीबी ने कुल 24 लाख रुपये नकद और बिना लाइसेंस वाले दो हथियार जब्त किए थे। इससे पहले, एसीबी ने दिल्ली वक्फ बोर्ड के कामकाज में कथित वित्तीय हेराफेरी और अन्य अनियमितताओं से संबंधित एक मामले में अमानतुल्लाह खान को तलब किया था।

बोर्ड में कथित गड़बड़ी के संबंध में पहले भी एफआईआर दर्ज की जा चुकी है। इस एफआईआरके अनुसार, अमानतुल्लाह खान ने सभी मानदंडों और सरकारी दिशानिर्देशों का उल्लंघन करते हुए 32 लोगों को अवैध रूप से भर्ती किया और भ्रष्ट एवं पक्षपातपूर्ण गतिविधियों में शामिल रहे। एसीबी ने शुक्रवार को जारी बयान में कहा था कि वक्फ बोर्ड के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष ने खान के खिलाफ बयान दिया था और अवैध भर्ती के खिलाफ एक ज्ञापन भी जारी किया था।

एजेंसी ने आरोप लगाया कि एसीबी की टीम जैसे ही खान को गिरफ्तार करने के लिए उनके आवास पर पहुंची, उनके रिश्तेदारों और परिचितों ने उस पर हमला कर दिया। तीसरा मामला एसीबी अधिकारियों के कामकाज में बाधा डालने से संबंधित है। पुलिस ने कहा कि इसमें शामिल लोगों की पहचान की जा रही है।

बता दें कि, एसीबी ने उपराज्यपाल सचिवालय को पत्र लिखकर अमानतुल्लाह खान को दिल्ली वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष पद से हटाने का अनुरोध किया था। एसीबी ने पत्र में दावा किया था कि खान ने अपने खिलाफ मामले में गवाहों को धमकाकर जांच को प्रभावित करने की कोशिश की है।

You May Also Like

error: ज्यादा चालाक मर्तबान ये बाबू कॉपी न होइए