2024 के लोकसभा चुनाव में लालू और नीतीश का सूपड़ा साफ कर देगी जनता – अमित शाह

पूर्णिया,                          केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने बिहार के दो दिन के दौरे की धमाकेदार शुरुआत पूर्णिया में जन भावना रैली से की और सीधे नीतीश कुमार और लालू यादव को चुनौती देते हुए कहा कि इनसे डरना नहीं है। अमित शाह ने कहा कि जब से लालू यादव नीतीश कुमार की सरकार में जुड़ गए हैं, जब से नीतीश कुमार लालू यादव की गोद में जाकर बैठ गए हैं तब से जो डर का माहौल खड़ा हुआ है, उससे किसी को डरने की जरूरत नहीं है, उपर नरेंद्र मोदी जी की सरकार हैं। अमित शाह ने कहा कि सीमांचल का ये इलाका हिंदुस्तान का हिस्सा है और जहां नरेंद्र मोदी की सरकार है।

अमित शाह ने अपने भाषण में नीतीश कुमार की प्रधानमंत्री पद की चर्चा पर जमकर तंज किया और कहा कि कुटिल राजनीति से पीएम नहीं बन सकते। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने पीएम बनने की हसरत में बीजेपी को धोखा देकर कांग्रेस और आरजेडी का हाथ थाम लिया जिसके खिलाफ लड़कर वो यहां तक पहुंचे हैं। अमित शाह ने कहा कि स्वार्थ की राजनीति में पाला बदलकर कोई प्रधानमंत्री नहीं बनता। शाह ने ये भी कहा कि उनके बिहार आने से लालू यादव और नीतीश कुमार के पेट में दर्द हो रहा है।

अमित शाह ने देवी लाल से लेकर जीतनराम मांझी तक का नाम गिनाया और आरोप लगाया कि नीतीश ने सबको धोखा दिया है और लालू को भी नीतीश से अलर्ट कहने कहा। शाह ने कहा कि नीतीश ने इस बार बीजेपी को जो धोखा दिया है वो सिर्फ भाजपा को नहीं बल्कि जनता और जनादेश को धोखा है। अमित शाह ने कहा कि 2024 के लोकसभा चुनाव में लालू और नीतीश का सूपड़ा जनता साफ कर देगी और 2025 के विधानसभा चुनाव में भाजपा की बहुमत की सरकार बनने जा रही है। अमित शाह ने मौजूद लोगों से कहा कि आपने अब तक बीजेपी की बिहार में लंगड़ी सरकार बनाई है, 2025 में अपने पैर पर सरकार बनाना है।

उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार की कोई विचारधारा नहीं है. उन्होंने बस अपनी कुर्सी सुरक्षित रखने की चिंता है. लालू राज को आज भी लोग भूल नहीं पाए हैं. बिहार में कमल खिलेगा. उन्होंने कहा कि एक बार पूर्ण बहुमत में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनाइए बिहार में विकास होगा.

अमित शाह ने कहा कि लोग कह रहे हैं कि मैं यहां झगड़ा लगाने के लिए आ रहा हूं जबकि लालू ने पूरा जीवन यही काम किया है. लालू जब सरकार में आए हैं तो बिहार में जंगलराज आना तय है.

अमित शाह ने कहा कि बिहार की यह धरती परिवर्तन का केंद्र रही है. अंग्रेजों के खिलाफ स्वतंत्रता का आंदोलन हो या इंदिरा की इमरजेंसी हो, इसके खिलाफ आंदोलन बिहार की भूमि से ही शुरू हुआ. आज भाजपा को धोखा देकर लालू की गोद में बैठकर नीतीश जी ने स्वार्थ और सत्ता की राजनीति का जो परिचय दिया है, उसके खिलाभ बिगुल फुंकने की शुरुआत भी इसी भूमि से होगी. हम स्वार्थ और सत्ता की राजनीति की जगह सेवा और विकास की राजनीति के पक्षधर हैं.

अमित शाह ने कहा कि नीतीश ने राजीनीति की शुरुआत से ही लोगों को धोखा दिया है. आप सबसे पहले जनता पार्टी देवीलाल गुट के साथ चले गए, उसके बाद लालू जी के साथ कपट किया. लालू जी आप ध्यान रखिएगा, नीतीश बाबू कल आपको भी छोड़कर कांग्रेस की गोदी में बैठ जाएंगे और आप धरे के धरे रह जाएंगे और किसी को मालूम भी नहीं पड़ेगा. सबसे बड़ा धोखा नीतीश जी ने किसी को दिया है तो देश में प्रतिष्ठित समाजवादी नेता जॉर्ज फर्नांडिस को दिया है. उनके कंधे पर बैठकर समता पार्टी बनाई और जब जॉर्ज बाबू का स्वास्थ्य अच्छा नहीं रहा तो उन्हें हटाकर खुद राष्ट्रीय अध्यक्ष बन गए. शरद यादव जी के साथ भी उन्होंने ऐसा ही किया. उसके बाद भाजपा के साथ धोखा, जीतन राम मांझी, राम विलास पासवान के साथ कपट किया. नीतीश कुमार ने कुर्सी बचाने के अलावा और कुछ नहीं किया. प्रधानमंत्री बनने की लालसा में वह फिर से लालू जी के साथ चले गए.

अमित शाह ने कहा कि आप बताइए आपने मोदी जी के साथ जाने के लिए वोट दिया था या लालू जी के साथ जाने के लिए. आपने वोट तो मोदी जी के नाम पर लिया था, मगर लालू के साथ क्यों चले गए. अमित शाह ने सीमांचल की जनता से कहा कि सीमावर्ती जिलों में किसी को डरने की जरूरत नहीं है, लालू-नीतीश की जोड़ी भले आ गई, मगर ऊपर नरेंद्र मोदी की सरकार है. किसी की हिम्मत नहीं है कि सीमावर्ती जिलों में मनमानी करने की. हमने बड़प्पन दिखाकर आपको मुख्यमंत्री बनाया. नीतीश बाबू आपको हमसे आधी सीट आई थी और आप आधे बनकर रह गए थे. हमने तब भीबड़प्पन दिखाकर आपको मुख्यमंत्री बनाया था क्योंकि मोदी जी ने वादा किया था कि हम नीतीश जी के नेतृत्व में ही चुनाव लड़ेंगे. मगर आप लोकसभा का चुनाव नजदीक आया, पीएम बनने के लिए कांग्रेस और लालू जी के गोद में बैठ गए. क्या बिहार की जनता आपको जानती नहीं है?

अमित शाह ने कहा कि नीतीश कुमार कभी प्रधानमंत्री नहीं बन पाएंगे और बिहार में भी सरकार नहीं चलेगी. उन्होंने कहा कि 2024 के लोकसभा चुनाव में लालू-नीतीश का जनता सूपड़ा साफ कर देगी. साथ ही 2025 के विधानसभा चुनाव में बिहार में बीजेपी की पूर्ण बहुमत की सरकार बनने जा रही है. नीतीश कुमार को बस कुर्सी प्यारी है. वो किसी भी पार्टी से गठबंधन कर लेते हैं. जब लालू जी सरकार में हैं तो कौन बचा सकता है. जिस दिन से शपथ लिया, उस दिन से ही बिहार की कानून-व्यवस्था की स्थिति खराब हो गई है. नीतीश जी इसे षडयंत्र बता रहे हैं. बिहार पर जंगलराज का खतरा मंडरा रहा है.

अमित शाह ने कहा कि नीतीश जी आप जो ये दल-बदल बार-बार करते हो, तो ये धोखा किसी पार्टी के साथ नहीं है, बल्कि ये धोखा बिहार की जनता के साथ है. नीतीश जी, 2014 में भी आपने यही किया था, ना घर के रहे थे ना घाट के. लोकसभा चुनाव 2024 आने दीजिए, आपकी इस जोड़ी को बिहार की जनता सूपड़ा साफ कर देगी. 2025 में भी यहां भाजपा पूर्ण बहुमत की सरकार बनाएगी.

 

You May Also Like

error: ज्यादा चालाक मर्तबान ये बाबू कॉपी न होइए