चारा घोटाला केस देख रहे सीबीआई के डिप्टी एसपी रूपेश कुमार श्रीवास्तव को ट्रक से कुचलने की कोशिश

गोरखपुर,                    यूपी में गोरखपुर-महराजगंज रोड पर बरगदही चौराहे के पास गुरुवार की देर रात सीबीआई के डिप्टी एसपी को ट्रक से कुचलने की कोशिश की गई। डिप्टी एसपी रूपेश कुमार श्रीवास्तव की गाड़ी में दो बार टक्कर मारने के बाद एक तेज रफ्तार ट्रक पलट गया और उसके ड्राइवर की ट्रक के नीचे दबकर मौत हो गई। दोनों बार की टक्कर में डिप्टी एसपी के चालक ने समझदारी दिखाते हुए अपनी और अफसर की जान बचाई। डिप्टी एसपी की तहरीर पर गुलरिहा पुलिस ने हत्या के प्रयास का केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। उधर, सीबीआई मुख्यालय से भी अफसरों को जांच के निर्देश दिए गए हैं।

महराजगंज जिले के श्यामदेउरवां थाना क्षेत्र के पिपरालाला निवासी रूपेश कुमार श्रीवास्तव केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) नई दिल्ली की शाखा में डिप्टी एसपी के पद पर तैनात हैं। गुरुवार को ही नई दिल्ली से एक दिन की छुट्टी पर घर आए थे और शाम को महराजगंज से गोरखपुर की तरफ जा रहे थे। बरगदहीं में उनकी स्कॉर्पियो गाड़ी में एक ट्रक ने दो बार ठोकर मारी और उसके बाद गिट्टी पर चढ़कर पलट गया। ट्रक की ठोकर से उनकी गाड़ी के पीछे का हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया। उनके ड्राइवर ने दोनों बार की ठोकर में सूझबूझ दिखाते हुए अपनी और डिप्टी एसपी की जान बचा ली।

रुपेश कुमार ने गुलरिहा पुलिस को पुलिस को बताया कि वे वर्तमान समय में कई अति संवेदनशील मामलों की जांच कर रहे हैं। इनमें पूर्ववर्ती केंद्र एवं राज्य सरकारों से जुड़े कई नामचीन लोग शामिल हैं। ऐसे में जिस प्रकार ट्रक दो बार उनकी स्कॉर्पियो को ठोकर मारते हुए गिट्टी पर जाकर पलट गया, उससे किसी साजिश से इनकार नहीं किया जा सकता है। उधर, सीबीआई की दिल्ली शाखा ने भी गोरखपुर के पुलिस अफसरों से मामले को गंभीरता से लेने को कहा है।

दुर्घटना का यह मामला हाईप्रोफाइल होने के बाद शुक्रवार की दोपहर में एसपी नार्थ मनोज कुमार अवस्थी ने मौके पर पहुंचकर जांच-पड़ताल शुरू कर दी है। गुलरिहा प्रभारी निरीक्षक उमेश कुमार बाजपेयी ने बताया कि हत्या के प्रयास सहित अन्य धाराओं में केस दर्ज कर जांच की जा रही है। फिलहाल ट्रक चालक की पहचान कुशीनगर जिले के लक्ष्मीपुर कुबेरस्थान निवासी रतन कुमार के रूप में हुई है।

रुपेश श्रीवास्तव ने अपनी पढ़ाई गोरखपुर से ही की है। वे स्व.आद्या प्रसाद श्रीवास्तव के बेटे और शहर के तिलक पैथोलॉजी के संचालक डॉ. मंगलेश श्रीवास्तव के छोटे भाई हैं।

सीबीआई अफसर रुपेश श्रीवास्तव बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव के चारा घोटाला और रेलवे भर्ती घोटाला, कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम सहित कई राज्य और केंद्र सरकार के मंत्रियों के हाई प्रोफाइल केस देख रहे हैं। इतना ही नहीं, सीबीआई ऑफिसर रूपेश श्रीवास्तव ने ही पी. चिदंबरम को गिरफ्तार भी किया था। ऐसे में उनपर जानलेवा हमले के पीछे किसी बड़ी साजिश होने की आशंका जताई जा रही है।

एसएसपी डॉ. गौरव ग्रोवर ने बताया कि सीबीआई ऑफिसर की तहरीर पर तत्काल केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू करा दी गई है। घटनास्थल पर डॉग स्क्वायड और फॉरेंसिक टीम भेजकर सैंपल भी लिए गए हैं। वहीं एसपी नार्थ मनोज कुमार अवस्थी का कहना है कि ड्राइवर उसके मालिक व अन्य लोगों की सीडीआर जांची जाएगी। प्रथमदृष्टया मामला दुर्घटना का ही लग रहा है पर सभी बिंदुओं की पड़ताल के बाद ही किसी नतीजे पर पहुंचा जा सकता है।

एसएसपी डॉ. गौरव ग्रोवर का कहना है कि मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए हर एक पहलू की बारीकी से जांच की जा रही है। घटना के पीछे की वजह तलाशने के लिए पुलिस, क्राइम ब्रांच और सर्विसलांस की छह टीमें लगाई गई हैं। पुलिस जल्द ही इस मामले की तह में जाकर सबकुछ साफ कर देगी। मैं खुद इस मामले की मॉनिटरिंग कर रहा हूं।

सीबीआई डिप्टी एसपी रुपेश कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि पहली बार में जब ट्रक ने मेरी गाड़ी को टक्कर मारी तो हादसा ही लगा लेकिन दोबार उसने अपनी स्टेयरिंग काटकर गाड़ी में टक्कर मारी जिससे उन्हें इसमें साजिश की आशंका दिख रही है। मेरे ड्राइवर ने काफी सूझ-बूझ से जान बचाई। उसने गाड़ी तेजी गति से आगे बढ़ाया इस बीच ट्रक चालक ने अपनी गाड़ी गिट्टी पर चढ़ा दिया और ट्रक पलट गया। गाड़ी आगे रोककर मैं और ड्राइवर वहां गए तो ट्रक में कोई नहीं दिखा।

You May Also Like

error: ज्यादा चालाक मर्तबान ये बाबू कॉपी न होइए